चार साल पहले मैच फिक्सिंग से खत्म हुआ था श्रीसंत का करियर - SupportMeYaar.Com | Top News | Ajab Gajab | LifeStyle | And Much More. . .

Breaking

Post Top Ad

Post Top Ad

Friday, 4 August 2017

चार साल पहले मैच फिक्सिंग से खत्म हुआ था श्रीसंत का करियर

भारत में आईपीएल का मजा अलग ही रहा है. जिसको इंडिया में लोग बड़े ही रोमांच के साथ मजा लेते है. इसके अंदर सभी खिलाडियों को मौका दिया जाता है की वे अलग-अलग टीम ने अपना सबसे अच्छा परफ़ोमंच दे. पर जैसे की हम सबको पता है की जहा आईपीएल का नाम आता है तो सबसे उपर एक और नाम आता है और वो है मैच फिक्सिंग. और ये बहुत लोग करते है इसमें कुछ लो लेवल का होता है तो कुछ हाई लेवल का. पर आज हम आपको एक सबसे बड़े आईपीएल मैच फिक्सिंग के बारे में बताने वाले है.
image : theindianexpress
दर्ह्सल हम बात कर रहे है साल 2013 की जब आईपीएल ख़त्म ही होने वाला था, पर तभी ही स्पोर्ट फिक्सिंग की खबरों में हड़बड़ी मचा दी. जो की 16 मई 2013 में एस. श्रीसंत और राजस्थान रॉयल्सटीम के दो खिलाडी जिसका नाम है (अजित चंदीला और अंकित चव्हाण) को गिरफ्तार कर लिया गया था. आईपीएल-6 में स्पोर्ट फिक्सिंग में मामले में तीनो आरोपीयों को मुंबई से गिरफ्तार कर लिया गया था.
श्रीसंत के नाम से मचगयी ख़लबली
image : iplnewsexpert
उस दिनों में ‘संजय दत्त का कोर्ट में होने वाले सरेंडर’ की खबर पे सबकी नज़रे पड़ी हुयी थी तभी ही गुरुवार की सुभह में आईपीएल में स्पॉट फिक्सिंग की खबर सामने आई और उसमे श्रीसंत का नाम सबसे पहले आया और सारे क्रिकेट प्रेमियों में हलचल मचगयी. बाद में एक हफ्ते बाद एक और बड़ा नाम सामने आया जिसमे बीसीसीआई चीफ श्रीनिवासन के दामाद गुरुनाथ मयप्पन का नाम. उनके उपर भी आईपीएल, सट्टेबाजी और स्पॉट फिक्सिंग कांड का केस दर्ज हुआ.
जब श्रीनिवास ने इस्तीफा देने से किया मना तो
image : alchetron.com
ये सब कांड सामने आया तो श्रीनिवास पर बीसीसीआई अध्यक्ष ने अपने पद से इस्तीफा देने के लिए आगे दबाव बढाया गया पर उन्होंने ऐसा करने के लिए साफ़ इनकार कर दिया जब की बोर्ड के सचिव, आईपीएल अध्यक्ष और कोषाध्यक्ष ने अपने-अपने इस्तीफे सूप दिए. जब की सिर्फ श्रीनिवास ही अपने पड़ को छोड़ने के लिए राजी हुए थे तब बोर्ड को कुछ गड़बड़ी लगी और एक जाँच समिति का गठन किया. पर जाँच शुरू होने से पहले ही दिल्ली पुलिस ने घोषणा करदी की राजस्थान रॉयल्स फ्रेंचाइजी राज कुंद्रा के मालिक ने आईपीएल मैचो में सट्टेबाजी काबुल कर दी है.
ये सब हो जाने के बाद क्या हुआ
10 जून 2013 को इन तीनो (श्रीसंत, अंकित चव्हाण और अजित चंदीला) को जमानत मिल गयी. दिल्ली पुलिस की 6000 से भी ज्यदा पेज वाली चार्जशिट में इन खिलाडियों के साथ 39 और लोगो को भी आरोपी बनाया गया. इन सबके लिए दिल्ली पुलिस के पूर्व कमिश्नर नीरज कुमार ने दावा किया की ये खिलाडी सिर्फ सट्टेबाजी में ही नहीं बल्कि स्पोर्ट फिक्सिंग में भी लिप्त थे.
25 जुलाई 2015 को आईपीएल स्पोर्ट फिक्सिंग केस में दिल्ली पुलिस को एक बहुत बड़ा झटका लगा क्युकी पटियाला हाउस कोर्ट ने इन सभी आरोपियों को बरी कर दिया. कोर्ट ने ऐसा इसीलिए करा की श्रीसंत, अंकित चव्हाण और अजित चंदीला पर लगाये गये पुलिस के  सारे आरोपों को ख़ारिज कर दिया और सबूतों की कमी से आरोपियों को रिहा कर दिया गया.
18 अप्रैल, 2017 को बीसीसीआई ने श्रीसंत पर आजीवन क्रिकेट खेलने पर पप्रतिबंध लगा दिया. अगर बीसीसीआई की माने तो किसी भी भ्रष्टाचारी के साथ किसी भी प्रकार का कोई भी समझौता नहीं कर सकते. फिर चाहे वो भारत का कोई भी तेज गेंदबाद ही क्यों ना हो. ये बात की सूचना बीसीसीआई ने श्रीसंत को पत्र लिखकर अपने ये फैसले की जानकारी दी थी.
कैसा लगा ये आर्टिकल ?
कमेंट करके जरुर बताये.

2 comments:

  1. बेहतरीन लेख .... तारीफ-ए-काबिल .... Share करने के लिए धन्यवाद...!! :) :)

    ReplyDelete
    Replies
    1. aapki ray dene ke liye aapka bahut bahut dhanywad :)

      Delete

• अगर आप इस आर्टिकल के बारे में कुछ कहेंगे या कोई सवाल कमेंट में करेंगे तो हमें बहुत ख़ुशी होगी
• गलत शब्दों का प्रयोग न करे वरना आपका कमेंट पब्लिश नहीं किया जायेगा