मौत की सजा सुनाने के बाद जज पेन क्यों तोड़ देते है, जानिए

आज हम आपको कोर्ट के बारे में एक ऐसी बात बताने वाले है जो आप नहीं जानते होंगे, अक्सर आपने फिल्मो में देखा होगा की जब कोई जज सजाए मौत देता है तो उसके बाद वो अपना पेन तोड़ देते है. ये बात तो आपने नोटिस की ही होंगी. ऐसा असल कोर्ट में भी होता है. जज जबभी किसी इंसान को फांसी की सजा देता है तो वो अपना पेन तोड़ देता है. आगे जानते है इस सवाल का जवाब.

zeenews
मौत की सजा सुनाने के बाद जज पेन क्यों तोड़ देते है
इस बारे में आपको बतादे की जज जब पेन की निब तोड़ते है वो एक सिंबॉलिक एक्ट है, जज ऐसा इसीलिए करते है की यह किसी इंसान के जीवन का अंतिम फैसला है और बाद में इस पेन को दुबारा इस्तेमाल नहीं किया जा सकता. इस बात से ये बात भी साबित होती है की जब पेन की निब टूटती है तो उसके साथ उस व्यक्ति के जीवन की भी निब टूट जाती है.

youtube
अब इस इंसान के लिए दूसरी सजा नहीं दी जा सकती इसीलिए जज उस पेन को हमेशा के लिए तोड़ देते है ताकि बाद में इसका दोबारा इस्तेमाल ना हो सके.



thevoicebw
 इस बारे में ऐसी भी मान्यता है की जब भी किसी इंसान को मृत्युदंड दिया हो उसको और कोई भी दंड नहीं दिया जा सकता, इस संसार में सबसे बड़ा दंड मृत्युदंड ही है, इसीलिए जज का भी ये फैसला अंतिम ही होता है बाद में उस पेन से उस इंसान का दुबारा फैसला नहीं किया जा सकता मतलब की जज का वो अंतिम फैसला होगा बाद में उस पर आवर कोई भी कारवाई नहीं की जा सकती.
ये सजा एक ऐसी सजा है कोर्ट के द्वारा दी गयी जिसको राष्ट्रपति के अलावा और कोई भी माफ़ नहीं कर सकता.

Previous article
Next article

Leave Comments

Post a comment

• अगर आप इस आर्टिकल के बारे में कुछ कहेंगे या कोई सवाल कमेंट में करेंगे तो हमें बहुत ख़ुशी होगी
• गलत शब्दों का प्रयोग न करे वरना आपका कमेंट पब्लिश नहीं किया जायेगा

loading...
loading...
loading...