मकर संक्राति के दिन ख़त्म होगा खरमास, करे ये चीजे दान

मकर संक्रांति माध कृष्ण पक्ष की त्रयोदशी को मनाई जाती है, मकर संक्रांति को अलग-अलग जगहों पर अलग-अलग नमो से जानी जाती है. खास कर के उत्तर भारत में स्नान और दान के इस पर्व को मकर संक्रांति के नाम से जाना जाता है.
मकर संक्राति के दिन ख़त्म होगा खरमास, करे ये चीजे दान

इस दिन भगवान सूर्य धनु राशी से मकर राशी में प्रवेश करते है. जा सूर्य मकर राशी में पहुचता है उस पुरे दिन को हम मकर संक्रांति के रूप में मनाते है. इस दिन किया हुआ दान और पुण्य कई गुना फल देता है क्युकी इसी दिन सूर्य दक्षिणायन से उत्तरायण होते है.
कुछ ऐसी भी मान्यताए प्रचलित है की संक्रांति के इस पवित्र दिन अगर कोई किसी पवित्र नदी में स्नान करले तो उसके सभी पाप धुल जाते है और आपकी जानकारी के लिए बतादे की इस दिन गंगा स्नान करने से एक हजार अश्वमेघ यज्ञ के बराबर फल मिलता है.
इस दिन आप क्या-क्या दान कर सकते है
इस दिन आप तांबे की कोई भी वास्तु, तिल, गुड, दही, पीले वस्त्र या कंबल का दान करेंगे तो बहुत शुभ होगा.
ये दिन दान दक्षिणा के लिए भी महत्वपूर्ण है. इस दिन खरमास भी समाप्त हो जाते है, मतलब की खरमास ख़त्म होने के बाद हम कोई भी मांगलिक कार्य कर सकते है. इस बार मकर संक्रांति पर दोपहर के 12 बजे से शाम 5.15 बजे तक पुण्यकाल रहेगा तो इस समय किया हुआ सभी दान ज्यादा फलदायी रहेगा.

0/Comments = 0 / Comments not= 0

• अगर आप इस आर्टिकल के बारे में कुछ कहेंगे या कोई सवाल कमेंट में करेंगे तो हमें बहुत ख़ुशी होगी

Previous Post Next Post
loading...
loading...
loading...
loading...