मकर संक्रांति के दिन इस बातों का अवश्य ध्यान रखे

सूर्य जब किसी दूसरी राशी में परिवर्तित होता है, मतलब की सूर्य जब धनु राशी से मकर राशी में प्रवेश करता है तो उस समय मकर संक्रांति मनाई जाती है. ये दिन बेहद ही खास होता है, इस दिन स्नान और दान की भी विशेष परंपरा होती है. इस दिन अपने पितरो के लिए जल में तिल भी अर्पण किये जाते है.
एक ऐसी मान्यता प्रचलित है की इसी दिन महाभारत में भीष्म पितामह ने सूर्य के उत्तरायण होने पर अपनी इच्छा से शरीर का परित्याग किया था. बाद में उनका श्राद्ध भी सूर्य की उत्तरायण गति में किया गया था. आगे जानते है वो खास बातें जिस पर हर इंसान को ध्यान रखना चाहिए.

मकर संक्रांति के दिन रखे इस खास बातों का ध्यान
⚫ मकर संक्रांति के दिन सुबह किसी पवित्र नदी में स्नान करना चाहिए, अगर कोई ऐसी पवित्र नदी नहीं है तो आप घर पर ही तिल के जल से स्नान कर सकते है.
स्नान हो जाने के बाद अपने आराध्य देव से प्राथना करनी चाहिए.
पितरो की आत्मा की शांति के लिए जल में तिल अर्पण करने चाहिए.
स्नान करने के बाद दान दक्षिणा का बहुत महत्व होता है, ज्यादातर लोग तिल का दान करते है.
अगर कोई और चीज का दान करना है तो आप गर्म कपडे, दूध, दही, चावल, खिचड़ी का दान कर सकते है.

जैसे की हम सभी जानते है मकर संक्रांति के दिन घर में तिल और गुड के लड्डू बनाने की परंपरा है, तो आपको इस दिन भोजन में भी तिल को शामिल करना चाहिए.

1/Comments = 0 / Comments not= 0

• अगर आप इस आर्टिकल के बारे में कुछ कहेंगे या कोई सवाल कमेंट में करेंगे तो हमें बहुत ख़ुशी होगी

  1. Jal mai konse se til dalke Surya bgwan ji ko chadaye

    ReplyDelete

Post a comment

• अगर आप इस आर्टिकल के बारे में कुछ कहेंगे या कोई सवाल कमेंट में करेंगे तो हमें बहुत ख़ुशी होगी

Previous Post Next Post
loading...
loading...
loading...
loading...