सुरेश रैना ने कहा – भारतीय टीम के इस खिलाड़ी के लिए में अपनी जान भी दे सकता हूँ - SupportMeYaar.com

Trending Now

Post Top Ad

Wednesday, 21 February 2018

सुरेश रैना ने कहा – भारतीय टीम के इस खिलाड़ी के लिए में अपनी जान भी दे सकता हूँ

भारतीय टीम के धुरंधर बल्लेबाज सुरेश रैना ने पुरे एक साल बाद राष्ट्रिय टीम में वापसी की है, हाल ही में हुए दक्षिण अफ्रीका के मैच में सुरेश रैना अच्छे लय में नजर आये.
क्या आप जानते है सुरेश रैना ने आखिरी मैच कब और कौनसा खेला था, अगर नहीं तो जानले की सुरेश ने इंग्लैंड के खिलाफ एक इंटरनेशनल मैच खेला था, उस मैच में सुरेश ने अर्धशतक भी लगाया था पर फ़िटनेस को लेकर कोई दिक्कत हुई उसके कारण सुरेश को चयनकर्ताओं ने नजरंदाज कर दिया था.
अब सुरेश रैना ने कड़ी मेहनत की है और वापिस अपनी सफलता को हासिल करने की तरह दौड़ रहे है और भारतीय टीम में शामिल हो रहे है. आपको एक अहम् जानकारी बतादें की सुरेश रैना ने भारतीय टीम के पूर्व कप्तान राहुल द्रविड़ को अपना सबसे अच्छा सपोर्टर बताया है. सुरेश का कहना है की राहुल ही थे जिन्होंने मुझे जिंदगी जीने का सही और अच्छा तरीका सिखाया है. बाद में ये भी कहा की एक खिलाड़ी के तौर पर हमें किसी के साथ कैसा बर्ताव करना चाहिए.
रैना ने वो बाद भी याद दिलाई की जब वो टीम इंडिया में नए-नए आये थे तब उन्हें तहजीब के बारे में कुछ भी पता नहीं था, तब राहुल ने उनकी मदद थी. सुरेश रैना का कहना है की में राहुल द्रविड़ की सच्चे दिल से इज्ज़त करता हु और मेरे सबसे पहले कप्तान मेरे बड़े भाई के जैसे ही है. हम दोनों यूपी वाले देशी है. मुजको तो ये भी नहीं पता था की कैसे खाना है कैसे कटलेरी का इस्तेमाल करना है. मुझे तो सिर्फ ये पता था की बस बोल को कैसे मारना है.
द्रविड़ का साथ मिलने के बाद मुजमे एक सलीका आया है एक तहजीब आई है. आगे रैना का ये भी कहना है की द्रविड़ ही है जिन्होंने मुझे जीना कैसे है वो सिखाया. राहुल भाई ने मेरा काफी समर्थन किया है. रैना ने एक और बात भी बताई की कैसे राहुल भाई ने मुझे प्रोत्साहित किया था और बताया था जब में इरफ़ान पठान के साथ बैठे थे और अगली मैच में खेलने का मौका नहीं मिलने की बात कर रहे थे,तब वो खाना खा रहे थे.
रैना ने पठान को कहा की पता नहीं कल का मैच खेलेंगे भी या नहीं, तभी राहुल भाई ने कहा की हमें फील्डिंग में अपना जलवा दिखाना चाहिए, बाद में मैंने इस दिन एक बेहतरीन प्रदर्शन किया और करीब दो या तिन रन आउट भी किये. अगर राहुल भाई हमें ऐसे मोटीवेट करते रहे तो एक दिन ऐसा भी आयेगा जब हम उसके लिए अपनी जान भी दे देंगे.

No comments:

Post a Comment

• अगर आप इस आर्टिकल के बारे में कुछ कहेंगे या कोई सवाल कमेंट में करेंगे तो हमें बहुत ख़ुशी होगी
• गलत शब्दों का प्रयोग न करे वरना आपका कमेंट पब्लिश नहीं किया जायेगा