यदि आपको भी दुसरों को उबासी लेते देख उबासी आती है तो इसे जरुर पढ़े

उबासी किसको आती है? जो लोग सोने के लिए जा रहे है उनको या फिर सो कर उठते है उसको, कुछ लोग उबासी कहते है तो कुछ लोग जम्हाई भी कहते है, हम अक्सर उबासी को नींद के साथ जोड़कर देखते है और यह कहते है की मुझे उबासी आने लगी है तो सो जाना चाहिए, लेकिन ऐसा बिलकुल भी नहीं है.


वैज्ञानिकों की अगर माने तो जब शरीर नींद को दूर करने के लिए दिमाग को सक्रीय करता है तो हमें उबासी आती है ऐसा वैज्ञानिकों का मत है. आज हम यहाँ पर आपको बताने वाले है की हमें दुसरो को देखकर क्यों उबासी आने लगती है.

Third party image reference
जब भी हम उबासी लेते है तो कोई दूसरा भी उसको देखकर उबासी लेना चालू कर देता है ऐसा इसीलिए होता है की तब इंसानी शरीर में ह्यूमन मिरर न्यूट्रॉन सिस्टम एक्टिवेट हो जाता है जो एक दुसरे के द्वारा किये गये काम या व्यव्हार को करने की नक़ल करता है ऐसा इसीसे प्रेरित है.

Third party image reference
साफ शब्दों में कहा जाये तो इसी सिस्टम पर दो लोग मानसिक रूप से और भावनात्मक रूल से एक दुसरे से जुड़ जाते है, ऐसा सिस्टम खास करके बंदरो में ज्यादातर पाया जाता है क्यूंकि उनके नकलची होना यही सिस्टम का काम है.
Previous article
Next article

Leave Comments

Post a comment

• अगर आप इस आर्टिकल के बारे में कुछ कहेंगे या कोई सवाल कमेंट में करेंगे तो हमें बहुत ख़ुशी होगी

loading...
loading...