किन्नर सिर्फ एक रात के लिए शादी करके क्या करते है, जानिए पूरा सच - SupportMeYaar.com

Trending Now

Post Top Ad

Wednesday, 16 May 2018

किन्नर सिर्फ एक रात के लिए शादी करके क्या करते है, जानिए पूरा सच

किन्नरों के बारे में आपने तोह जरुर सुना होंगा, यह न तो पुरुष होते है और ना ही स्त्री, इसीलिए यह विवाह नहीं करते, ऐसे में आपको यह बात जानकर हैरानी होंगी की किन्नर भी शादी करते है और वोह भी सिर्फ एक रात के लिए ही. चौंका देने वाली बात तो यह है की यह कोई दुसरे किन्नर से नहीं बल्कि उनके भगवान से शादी कर लेते है.

Third party image reference
किन्नरों का भगवान और उनके साथ विवाह की जरुरी बातें आज हम आपके सामने लेकर आये है जिसको जानकार आप हैरान हो जायेंगे और बोलेंगे क्या सच में ऐसा भी होता है?
किन्नरों के भगवान की अगर बात करे तो यह कोई सामान्य व्यक्ति नहीं है, किन्नरों के भगवान अर्जुन और नाग कन्या उलूपी की संतान इरावन ही है जिनको लोग अरावन के नाम से आज भी जानते है.
इरावन ही किन्नरों के भगवान कैसे बने और क्यों करते है वह एक रात के लिए शादी उसका सिधेसिधा संबंध महाभारत के युद्ध से संबंधित है. यह कहानी आपको बताने से पहले आपको यह भी बता देते है की कहा पर होती है इनकी शादी और शादी के बाद क्या होता है.

Third party image reference
किन्नरों की शादी देखने के लिए आपको तमिलनाडु के एक गाव जिसका नाम है कुवगाम आपको यहाँ पर आना होगा, यहाँ पर हर साल तमिल नव वर्ष की पहली पूर्णिमा के दिन हजारों किन्नर विवाह करते है और यह तौहार करीब 18 दिनों तक चलता है, इसमें 17 वें दिन किन्नरों की शादी होती है और किन्नरों को पुरोहित मंगलसूत्र पहनाते है.
विवाह के अगले दिन से ही इरावन की मूर्ति को पुरे शहर में घुमाया जाता है और बाद में इसको तोड़ दिया जाता है. इसके साथ ही किन्नर को अपना सारा श्रुंगार उतारकर एक विधवा की तरह विलाप करने लगती है.

Third party image reference
अब आपके इसके पीछे के रहस्य के बारे में भी बता देते है, महाभारत के युद्ध में पांडवों में माँ काली की पूजा की और इस पूजा में कोई एक राजकुमार की बलि देनी थी. इस काम के लिए कोई भी राजकुमार आगे नहीं आया, पर इरावन ने सामने से आकर कहा की में इस काम के लिए पूरी तरह से तैयार हूँ. इरावन ने इस काम के लिए एक शर्त भी रख दि की वह बिना शादी किये यह बलि पर नहीं चढ़ेगा.
पांड्वो के लिए एक बेहद ही मुश्किल परिस्थिति सामने आ गयी की सिर्फ एक दिन के लिए कौन राजकुमारी इरावन के साथ विवाह करेगी और अगले दिन विधवा हो जाएगी. अब इस समस्या का समाधान भगवान श्रीकृष्ण ने निकाल लिए और खुद ही मोहिनी रूप धारण करके सामने आ गये.

Third party image reference
भगवान श्रीकृष्ण में मोहिनी रूप धारण करके इरावन से विवाह कर लिया और अगले दिन ही इरावन की बली दी गयी. बाद में श्रीकृष्ण ने विधवा बन कर विलाप भी किया. इस घटना को याद करके अब सभी किन्नर इरावन को ही अपना भगवान मानते है और एक रात के लिए विवाह करते है.
रोजाना ऐसी जानकारी के लिए हमें फ़ॉलो जरुर करें.

No comments:

Post a Comment

• अगर आप इस आर्टिकल के बारे में कुछ कहेंगे या कोई सवाल कमेंट में करेंगे तो हमें बहुत ख़ुशी होगी
• गलत शब्दों का प्रयोग न करे वरना आपका कमेंट पब्लिश नहीं किया जायेगा