अदभूत : ओशो की मौत पर आज भी है रहस्य

ओशो के बारे में तो आपने जरुर सुना होंगा, ओशो के जीवन से जुडी कुछ ऐसी कुछ ऐसी जानकारियां है जो आज भी अनसुलजी है. ओशो का जन्म ११ दिसंबर के दिन हुआ था, तो चलिए जानते है ओशो से जुडी कुछ अदभुत जानकारी.

Third party image reference
11 दिसंबर, 1931 को मध्य प्रदेश के कुचवाड़ा गाँव में ओशो रजनीश का जन्म हुआ था और उनका रियल नाम चन्द्रमोहन हैं था.
 आपकी जानकारी के लिए बतादे की ओशो ने अपनी एक किताब ‘ग्लिप्सेंस ऑफड माई गोल्डन चाइल्डहुड’ में साफ़-साफ़ लिखा हुआ है की उन्हें बचपन से ही दर्शन में रूचि पैदा हो चुकी थी.

Third party image reference
ओशो ने सभी धर्मो में अपनी विचारधारा के अनुसार पुरे देश में प्रवचन देना शुरू कर दिया और उनका व्यक्तित्व कुछ ऐसा था की कोई भी इसके असर में आये बिना नहीं रह पाता था.
शुरूआती समय में ओशो को आचार्य रजनीश के नाम से जाना जाता था जब उन्होंने प्रवचन के साथ-साथ ध्यान शिविर का आयोजन किया था.

Third party image reference
नौकरी छोड़ने के बाद उन्होंने नवसंन्यास आंदोलन किया और इसके बाद से ही उन्होंने खुद को ओशो के नाम से बुलाना शुरू कर दिया था.
आपकी जानकारी के लिए बतादे की ओशो का आश्रम करीब 65 हजार एकड़ में फैला हुआ है, जब वे अमेरिका के दौरे पर गये तभी से वो विवादास्पद हो गये और उनके पास रोल्स रॉयस कारें, डिजाइनर कपडे और महँगी घड़ियों की वजह से वो हमेशा चर्चा के विषय में रहे थे.
जब ओशो भारत आये तो उसको पुणे के कोरेगांव पार्क इलाके में स्थित आश्रम में आ गये और 19 जनवरी, 1990 को उनकी मौत हो गयी थी.

Third party image reference
ओशो के मौत के बाद उसका मौत का सर्टिफिकेट जारी करने वाले डॉक्टर गोकुल गोकाणी काफी लंबे समय तक उनकी मौत पर खामोश रहे पर बाद में उन्होंने ओशो की मौत का प्रमाणपत्र गलत जानकारी को देकर उनको दस्तखत लिए गए.
आपकी जानकारी के लिए बतादे की ओशो की माँ भी उनके आश्रम में ही रहती थी और उनकी माँ को भी ओशो के मौत की जानकारी काफी समय बाद दी थी. ओशो की माँ लम्बे समय तक यह भी कह रही थी की बेटा उन्होंने तुम्हे मार दिया डाला.
आपकी जानकारी के लिए बतादे की योगेश थककर का कहना है की उनके आश्रम की संपत्ति हजारो करोडो रूपये की है और उनकी किताबो से और कच अन्य चीजो से करीब 100 करोड़ रूपये की रॉयल्टी उन्हें मिलती है
अब ओशो की विरासत पर ओशो इंटरनेशनल का नियंत्रण है और अब ओशो इंटरनेशनल की यह दलील है की उन्हें ओशो की विरासत वसीयत के तौर पर मिली है.
रोजाना ऐसी जानकारी के लिए हमें फोलो जरुर करें.
Previous article
Next article

Leave Comments

Post a comment

• अगर आप इस आर्टिकल के बारे में कुछ कहेंगे या कोई सवाल कमेंट में करेंगे तो हमें बहुत ख़ुशी होगी

loading...
loading...