यदि आप ने भी कभी कैप्सूल खाई है तो इसे जरूर पढ़े, बाद में पछतायेंगे

इस दुनिया में शायद ही कोई ऐसा आदमी होंगा जिसमे कैप्सूल का इस्तेमाल नहीं किया होंगा. ज्यादातर दवाओं को कैप्सूल के रूप में दिया जाता है क्यूंकि यह शरीर के अंदर जल्दी से घुल जाता है पर इस कैप्सूल के भी दो तरह के प्रकार होते है तो चलिए जानते है कैप्सूल के बारे में कुछ अनजाने फैक्ट्स.

Third party image reference
क्या आप जानते है कैप्सूल के करीब दो तरह के प्रकार होते है जिसमे सबसे पहला पारंपरिक जिलेटिन कैप्सूल होता है और दूसरा शाकाहारी प्रकार के कैप्सूल होता है.
कैप्सूल्स के बारे में कुछ मुख्य बातें
शायद आपको पता नहीं होंगा की कैप्सूल बनाने में सबसे ज्यादा इस्तेमाल जिलेटिन का किया जाता है और यह सस्ता भी होता है और आसानी से मिल भी जाता है.

Third party image reference
क्या आप जानते है कैप्सूल को उसकी मांग के अनुसार भी बनाया जाता है जैसे की उसका रंग, आकर और स्वाद इन सभी के अनुसार कैप्सूल को तैयार किया जाता है.
क्या आप जानते है जिलेटिन जानवरों के द्वारा ही कोलेजन से मिलकर कैप्सूल बनाया जाता है और कोलेजन को भी दो तरह से जिसने हड्डी, गाय और सूअर की चमड़ी से बनाये गये अमीनो एसिड का इस्तेमाल किया जाता है.

Third party image reference
क्या आप जानते है की शाकाहारी या वनस्पति के कैप्सूलो में किसी भी प्रकार के जिलेटिन का इस्तेमाल नहीं किया जाता. तो दोस्तों ये थी कैप्सूल के बारे में कुछ अनसुनी जानकारी जिसके बारे में आपने पहले कभी भी नहीं जाना था.
रोजाना ऐसी जानकारी के लिए हमें फ़ॉलो जरुर करें.
Previous article
Next article

Leave Comments

Post a comment

• अगर आप इस आर्टिकल के बारे में कुछ कहेंगे या कोई सवाल कमेंट में करेंगे तो हमें बहुत ख़ुशी होगी
• गलत शब्दों का प्रयोग न करे वरना आपका कमेंट पब्लिश नहीं किया जायेगा

loading...
loading...
loading...