योग और ध्यान की मदद से तीसरी आँख कैसे खोले - SupportMeYaar.com

Trending Now

Post Top Ad

Saturday, 28 July 2018

योग और ध्यान की मदद से तीसरी आँख कैसे खोले

आज हम आपको योग,ध्यान और त्राटक साधना से तीसरी आँख को कैसे खोल सकते है उसके बारे में थोडा विस्तार से बताने वाले है. वैसे यह वैदिक प्रक्रिया है यह आज को कलयुग में नहीं हो सकती पर फिर भी आज हम यहाँ पर कुछ ऐसी जानकारी आपको देने वाले है जिससे यह संभव हो सकता है, तो चलिए जानते है की कैसे योग, ध्यान की मदद से अपनी तीसरी आँख को खोल सकते है.

Third party image reference
भगवान शिव का वो चित्र तो आपने देखा ही होगा जिसमे भगवान शिव के दोनों भौंहों के बीच तीसरा नेत्र दिखता है. हमारा वैदिक पुराण भी इसी की और संकेत करता है और इसको योगाभ्यास से साधक अपने तीसरे नेत्र यानी विवेक दृष्टि को जगा सकता है.

Third party image reference
यौगिक द्रष्टि से यदि देखा जाये तो योग साधना का सतत अभ्यास करते रहने से यह ग्रंथि विकसित की जा सकती है और वह सब देखा समझा जा सकता है जो इस दिखाई दोनों आँखों से दिखाई नहीं देता. हमारे शास्त्रों में तो यहाँ तक बताया गया है की इसी द्रष्टि यानि की तीसरी आँख में वो भी क्षमता है जिसकी मदद से किसी को शाप देना या फिर किसी को वरदान देना यह भी संभव हो सकता है.

Third party image reference
योग शास्त्र में ऐसा माना जाता है की लगातार त्राटक करने से यह तीसरा नेत्र खुल जाता है और ऐसा आप किसी दीपक की मदद से कर सकते है. इसके लिए आपको कंधे की सीध में तिन फुट की दूरी पर दीपक या मोमबत्ती को जलाकर रखनी होती है और इसको जलाने के बाद करीब 30 सेकंड से लेकर 1 मिनिट तक देखने के क्रम को बार-बार दोहराया जाता है.

Third party image reference
पश्चिमी दुनिया में एक विभिन्न तरीके त्राटक करने के उल्लेख भी मिलते है जिसमे कुछ विशेष अभ्यासी एक काला गोला बनाते हैं और ठीक बीच में एक सफेद निशान बनाकर त्राटक करते है. कुछ लोगो का तो ऐसा भी कहना है की गुलाब के फूल पर ध्यान करने से भी यह सिद्ध हो सकता है.
रोजाना ऐसी ही जानकारी के लिए हमें फ़ॉलो जरुर करें

No comments:

Post a Comment

• अगर आप इस आर्टिकल के बारे में कुछ कहेंगे या कोई सवाल कमेंट में करेंगे तो हमें बहुत ख़ुशी होगी
• गलत शब्दों का प्रयोग न करे वरना आपका कमेंट पब्लिश नहीं किया जायेगा