मरने के बाद भारत की इस जगह पहुचती है सभी व्यक्ति की आत्मा - SupportMeYaar.com

Breaking

loading...

Thursday, 19 December 2019

मरने के बाद भारत की इस जगह पहुचती है सभी व्यक्ति की आत्मा

आज हम भारत देश के एक ऐसे मंदिर के बारे में बात कर रहे है जहा पर कोई व्यक्ति गया हो की ना गया हो पर मरने के बाद तो यहाँ पर आना ही पड़ता है. वैसे आपकी जानकारी के लिए बतादे की यह मंदिर हिमाचाल प्रदेश के चम्बा जिले में स्थित भरमौर नामक स्थांन पर आया हुआ है जहा पर लोग बाहर से ही प्रणाम करके वापिस लौट आते है.

Third party image reference
इस मंदिर के बारे में ऐसा भी माना जाता है की मरने के बाद सबसे पहले आत्मा को यही पर ही लाया जाता है, यह मंदिर धर्मेश्वर महादेव का है और धर्मराज यानि की यमराज का यह मंदिर इस दुनिया में एकलौता मंदिर है जो भारत में आया हुआ है.

Third party image reference
वैसे यह मंदिर देखने में तो आम घरो के जैसे ही दीखता है क्यूंकि इस मंदिर में सिर्फ एक खाली कमरा है जिसको चित्रगुप्त का कमरा माना जाता है, चित्रगुप्त जी के बारे में आप सब जानते ही होंगे की वो यमराज के सचिव है जो सभी जीवो के कर्मो का लेखा-जोखा रखते है.

Third party image reference
इस मंदिर के बारे में ऐसी मान्यता है की जब भी किसी प्राणी की मृत्यु हो जाती है तो यमदूत उस व्यक्ति की आत्मा को पकड़कर सबसे पहले इस मंदिर में चित्रगुप्त जी के पास ले आते है फिर चित्रगुप्त जी उस जीवात्मा को उनके जिंदगीभर के कर्मो का ब्योरा देते हैं इसके बाद चित्रगुप्त के सामने के कक्ष में आत्मा को ले जाया जाता है क्यूंकि इस कमरे को यमराज की कचहरी भी कहा जाता है.

Third party image reference
इस मंदिर के बारे में ऐसी मान्यता है की यहाँ पर चार गुप्त द्वार है जो चार अलग-अलग धातु से बने हुए है जिसमे तांबा, लोहा, स्वर्ण और रजत के द्वार है. जब यमराज का फैसला आता है तो उसके बाद यमदूत उस आत्मा को इन्ही द्वारो से स्वर्ग या नर्क में ले जाते है, वैसे आपकी जानकारी के लिए बतादे की गरुड़ पुराण में भी यमराज के दरबार में चार दिशाओं में चार द्वार का उल्लेख किया गया है.
रोजाना ऐसी ही जानकारी के लिए हमें फ़ॉलो जरुर करें.

No comments:

Post a Comment

• अगर आप इस आर्टिकल के बारे में कुछ कहेंगे या कोई सवाल कमेंट में करेंगे तो हमें बहुत ख़ुशी होगी
• गलत शब्दों का प्रयोग न करे वरना आपका कमेंट पब्लिश नहीं किया जायेगा