इंटरनेट की वो काली सच्चाई जिससे आप अभी तक अंजान थे - SupportMeYaar.com

Trending Now

Post Top Ad

Tuesday, 16 October 2018

इंटरनेट की वो काली सच्चाई जिससे आप अभी तक अंजान थे

जब भी हमें कुछ भी समज में नहीं आता तो हम गूगल पर सर्च कर लेते है. हम अपनी सभी डिटेल्स को ऑनलाइन पोर्टलों के साथ-साथ क्लाउड स्टोरेज में रखते है. पर क्या आप जानते है कुछ ऐसे बातें ऐसी भी है जो हमें इंटरनेट कभी भी नहीं बताता.

Third party image reference
 तो चलिए जानते है कुछ ऐसी बातों को जो हमें इंटरनेट कभी भी नहीं बताता और हमें भी उस बारे में पता नहीं होता.
वेबकैम रिमोट ऐक्सेस

Third party image reference
आपकी जानकारी के लिए बतादे की हैकर्स कभी भी आपके वेबकैम को रिमोट बड़ी ही आसानी से एक्सेस कर लेते है, इसीलिए आप जब भी वेबकैम से पिक्चर्स लें तो यह बात जरुर सुनिश्चित कर लें कि विडियो कॉल्स के जरिए अपने इन्टिमेट पल तो शेयर नहीं कर रहे.
वायरलेस कीबोर्ड

Third party image reference
क्या आप जानते भी है हैकर्स आपके वायरलेस कीबोर्ड स्ट्रोक्स पर भी अपनी नजर रख रहा है, जब भी आप कीबोर्ड फ्री होता है तो वोह भी इसको प्रेस कर सकते हैं.
पासवर्ड चुरा सकते हैं हैकर्स

Third party image reference
क्या आप जानते भी है हैकर्स किसी भी कंपनी का सर्वर हैक करने के बाद लाखो पासवर्ड को एक ही झटके में चुरा सकते है. ऐसे में आपकी सिक्यूरिटी भी खतरे में आ सकती है, विअसे आपकी जानकारी के लिए बतादे की हैकर्स ने याहू सर्वर हैक कर के करीब 50 करोड़ यूजर्स की अकाउंट से जुड़ी जानकारी चुरा ली थी.
आईफोन और आपकी लोकेशन
जैसे की हम सब जानते है की हमारा आईफोन हमारे कई सारे रिकॉर्ड रखता है ऐसे में आईफोन टाइमस्टैंप के साथ लैटिच्यूड और लॉन्गिच्यूड की जानकारी एक सीक्रिट फाइल में स्टोर करता है और वह सभी फाइल्स और जानकारी को सिंक्रनाइज करने पर आपके कॉम्प्यूटर में स्टोर अपलोड कर लेता है.
क्लाउड स्टोरेज हैकिंग

Third party image reference
आप जितना क्लाउड स्टोरेज को सुरक्षित समझते हैं वह उतना सुरक्षित नहीं होता क्यूंकि वह हैक भी हो सकता है. इसीलिए आप कभी भी अपने इन्टिमेट फोटो को क्लाउड पर स्टोर ना करे.
ऐंड्रॉयड फोन
बता दे की आपका ऐंड्रॉयड फोन भी सुरक्षित नहीं है क्यूंकि इसमें एक बैकडोर होता है जरिए यूजर के कॉल लॉग, टेक्स मेसेजेस और लोकेशन जैसे डीटेल को आसानी से चुराया जा सकता है और यह सभी जानकारी आपके डिवाइस में मौजूद प्री-इन्स्टॉल्ड सॉफ्टवेयर के जरिए शेयर की जाती है.
तो अब आप समज गये होंगे की कैसे आप इंटरनेट की जाल में फंसते जा रहे हो.
रोजाना ऐसी ही जानकारी के लिए हमें फ़ॉलो जरुर करें.

No comments:

Post a Comment

• अगर आप इस आर्टिकल के बारे में कुछ कहेंगे या कोई सवाल कमेंट में करेंगे तो हमें बहुत ख़ुशी होगी
• गलत शब्दों का प्रयोग न करे वरना आपका कमेंट पब्लिश नहीं किया जायेगा