इस गाँव से मिली थी रावण को पारण मणि, जिससे बनाई थी सोने की लंका - SupportMeYaar.com

Breaking

loading...

Friday, 10 April 2020

इस गाँव से मिली थी रावण को पारण मणि, जिससे बनाई थी सोने की लंका

आज हम आपको पारस मणि के बारे में बताने वाले है जो अंत में रावण के पास थी उसके बाद वो कहा पर गयी आज तक किसी को भी पता नहीं है, तो चलिए जानते है की रावण के पास पारस मणि कहा से आई थी.


Third party image reference
आज हम आपको यहाँ पर राजस्थान के अलवर शहर से 3 किलोमीटर दूर रावण देहरा गाँव के बारे में बताने वाले है जहा पर आज भी प्राचीन जैन मंदिर के भग्नावशेष मिलते आ रहे है और यहाँ के बारे में लोगो का ऐसा मानना है की इस मंदिर का निर्माण स्वयं रावण ने कराया था.


Third party image reference
वैसे आपको बतादें की रावण और उसकी पत्नी मंदोदरी जन पार्श्वनाथ की पूजा में लीन थे तभी वहा पर इंद्रदेव प्रकट हुए थे और भगवान पार्श्वनाथ की पूजा करने के लिए कहा था और चमत्कारिक पारस पत्थर का वरदान मांगने के लिए कहा था.


Third party image reference
जब रावण ने उनकी पूजा की तो भगवान पार्श्वनाथ ने प्रसन्न हो कर पारस पत्थर दे दिया, वैसे आपको बतादें की इस चमत्कारिक पारस पत्थर से लोहे को भी सोना बनाया जा सकता है, इसके बाद रावण ने लोहे से सोना बनाया और स्वर्ण नगरी लंका का निर्माण कराया.


Third party image reference
वैसे आपको बतादें की रावण देहरा गांव के जैन मंदिर की मूर्तियों को बीरबल मोहल्ले में स्थित जैन मंदिर में रखा गया है और इस मंदिर हो मौजूदा समय में रावण पार्श्वनाथ मंदिर कहा जाता है.


Third party image reference
तो ऐसे रावण ने पार्श्वनाथ मंदिर में पूजा-अर्चना करके भगवान पार्श्वनाथ को प्रसन्न किया और उनसे पारस मणि का वरदान लिया.
रोजाना ऐसी ही अटपटी जानकारी के लिए हमें फ़ॉलो जरुर करें.

No comments:

Post a comment

• अगर आप इस आर्टिकल के बारे में कुछ कहेंगे या कोई सवाल कमेंट में करेंगे तो हमें बहुत ख़ुशी होगी
• गलत शब्दों का प्रयोग न करे वरना आपका कमेंट पब्लिश नहीं किया जायेगा