सार्वजनिक जगहों पर महिलाओं और बच्चों के मौलिक अधिकार - SupportMeYaar.com

Trending Now

Post Top Ad

Friday, 18 January 2019

सार्वजनिक जगहों पर महिलाओं और बच्चों के मौलिक अधिकार

आज हम आपको सार्वजनिक जगहों पर महिलाओं और बच्चों के अधिकारों के बारे में बताने वाले है, जिसको जानना हमें बेहद ही जरुरी है क्यूंकि आज तक हमें इन सभी अधिकारों के बारे में पता नहीं था और जिसकी वजह से कई सारे बच्चे और महिलाओं को हम लापरवाही की नज़रों से देखते है, तो चलिए जानते है की महिलाओं और बच्चों के मौलिक अधिकार क्या है.

Third party image reference
कुछ लोग कई ऐसी जगहों पर गये होते है जहा पर पानी नहीं मिल पाता, ऐसे में इंडियन सराइस एक्टर 1867 के तहत भारत का कोई भी नागरिक किसी भी समय किसी भी होटल में अपने या अपने पालूत जानवर के लिए पानी का प्रयोग कर सकता है साथ ही किसी भी होटल में महिला या पुरुष वॉशरूम भी प्रयोग कर सकता है और इसके लिए उन्हें किसी भी प्रकार का चार्ज नही देना होगा.

Third party image reference
कभी कभी ऐसा हो जाता है की कोई अविवाहित जोड़ा किसी जगह पर घुमने गया हो और अंत में रात बहुत हो गयी हो ऐसे में वो जल्दी से अपने घर पर नहीं जा सकते और कीसी होटल में रुकने का सहारा लेते है, ऐसे में कई होटलें ऐसी भी है जहा पर अविवाहित जोड़ें को नहीं रुकने दिया जाता. ऐसे में हम आपको बतादें की होटल एसोशिएशन ऑफ इंडिया जो पूरे भारत में 280 से अधिक होटल संचालित करती है उन्होंने घोषणा की है की भारतीय कानून में ऐसा कोई भी नियम नही हैं जिसमें किसी अविवाहित जोड़ों को होटल में प्रवेश करने से रोका जाए.

Third party image reference
जब कोई महिला मजदूरी या नौकरी करने के लिए जाती है तो वहा पर महिलाओं को भेदभाव की नज़रों से देखा जाता है और वेतन की बात करें तो पुरुषों के मुकाबलें महिलाओं को कम वेतन दिया जाता है, इसीलिए हमारे देश में भी ऐसा कानून बना हुआ है की लिं*ग के आधार पर किसी के साथ भी भेदभाव नहीं किया जा सकता.

Third party image reference
जब कोई भी महिला यौ*न उत्पीड़न शिकार बनती है तो उस महिला का नाम न छापने देने का अधिकार महिलाओं को दिया हुआ क्यूंकी कई बार ऐसा होता है की ऐसे केस में महिलाओं के नाम भी दे दिए जाते है जिसके कारण महिलाओं को भारी शर्मिंदगी का सामना करना पड़ता है.
कई बार कोई अपराध हो जाता है तो ऐसे में किसी महिला का नाम भी उसमे आ जाता है और पुलिस उनको गिरफ्तार करने के लिए आती है. बात तो तब ज्यादा बढ़ जाती है जब रात के समय में महिला को गिरफ्तार करने के लिए आती है तब यह अधिकार महिला के लिए जरुरी बन जाता है की सूरज डूबने के बाद और सूरज उगने से पहले किसी भी महिला को गिरफ्तार नहीं किया जा सकता.
आपको बतादें की कई लोग ऐसे भी है जो आज भी बाल मजदूरी करवा रहे है ऐसे में 14 वर्ष से कम आयु वाले किसी भी बच्चे को कारखानों, खानों या अन्य किसी जोखिम भरे काम पर नियुक्त नहीं किया जा सकता.
तो यह थे वो मौलिक अधिकार जो महिलाओं और बच्चों के लिए बनाये गये है.
रोजाना ऐसी ही अटपटी ख़बरों के लिए हमें फ़ॉलो जरुर करें.

No comments:

Post a Comment

• अगर आप इस आर्टिकल के बारे में कुछ कहेंगे या कोई सवाल कमेंट में करेंगे तो हमें बहुत ख़ुशी होगी
• गलत शब्दों का प्रयोग न करे वरना आपका कमेंट पब्लिश नहीं किया जायेगा