कौमार्य फिर से मिल जाता था द्रौपदी को, जाने ऐसी ही कुछ रोचक बातें - SupportMeYaar.com

Trending Now

Post Top Ad

Wednesday, 13 February 2019

कौमार्य फिर से मिल जाता था द्रौपदी को, जाने ऐसी ही कुछ रोचक बातें

जैसे की हम सब जानते है की द्रौपदी ने कभी चुप रहने में विश्वास नहीं किया था, द्रौपदी ने धृतराष्ट्र से न्याय मांगा पर कुछ नहीं हुआ, बाद में द्रोणाचार्य, कृपाचार्य और उनके पतियों जैसे महान योद्धाओं की भी निंदा की जो चीर-हरण के दौरान उसे अपमान से नहीं बचा पाए थे.

Third party image reference
आपको बतादें की द्रौपदी युवा रूप में पैदा हुई थी, इसलिए उनका बचपन नहीं था, एक महत्व की बात बतादें की महाभारत के अनुसार द्रौपदी का जन्म महाराज द्रुपद के यहाँ यज्ञकुण्ड से हुआ था.

Third party image reference
ऐसा भी माना जाता है की आज के दक्षिण भारत में द्रौपदी काली का रूप थीं, जो अभिमानी कौरवों का नाश करने के लिए कृष्ण की सहायता हेतु द्रौपदी के रूप में आईं थीं.

Third party image reference
कुछ किवदंतियों के अनुसार पांडवों के नियम के मुताबिक जब भी कोई एक भाई द्रौपदी के साथ एकांत में रहेगा तो दूसरा भाई कक्ष मे प्रवेश नहीं करेगा, इसके लिए नियम था कि द्रौपदी के साथ वाला पांडव की पादुकाएं कक्ष के बाहर रहेंगी जो अन्य भाईयों को सूचित करेंगी की कोई एक भाई कक्ष में मौजूद है.

Third party image reference
एक बार की बात है जब द्रौपदी जब युधिष्ठिर के साथ कक्ष में थीं तभी एक कुत्ता युधिष्ठिर की पादुकाएं ले गया. कहते हैं कि द्रौपदी को वरदान था कि वह अपना कौमार्य वापस पा लेगी, द्रौपदी एक पति के बाद दूसरे पति के पास जाने से पहले अग्नि स्नान करती थी और उसे कौमार्य वापस मिल जाता था.

Third party image reference
एक बार जब भीम-हिडम्बा (राक्षसनी जो द्रौपदी के अलावा भीम की दूसरी पत्नी थी) का पुत्र घटोत्कच्छ अपने पिता के राज्य में भ्रमण करने आया था तो उसने अपनी मां हिडम्बा के कहे अनुसार द्रौपदी को सम्मान नहीं दिया और द्रौपदी ने उसे कम आयु होने का श्राप दे दिया था.
तो यह थी वो बातें जिससे यह पता चलता है की द्रौपदी को वरदान था कि वह अपना कौमार्य वापस पा सकती है.
रोजाना ऐसी ही अटपटी ख़बरों के लिए हमें फ़ॉलो जरुर करें.

No comments:

Post a Comment

• अगर आप इस आर्टिकल के बारे में कुछ कहेंगे या कोई सवाल कमेंट में करेंगे तो हमें बहुत ख़ुशी होगी
• गलत शब्दों का प्रयोग न करे वरना आपका कमेंट पब्लिश नहीं किया जायेगा