200 जहाज और 1000 लोगों को निगलने वाले “बरमूडा ट्रायंगल” का खुला रहस्य - SupportMeYaar.com

Trending Now

Post Top Ad

Saturday, 14 September 2019

200 जहाज और 1000 लोगों को निगलने वाले “बरमूडा ट्रायंगल” का खुला रहस्य

आज हम आपको अटलांटिक महासागर में रहस्य बने बरमूडा ट्राइएंगल के बारें में बताने वाले है क्यूंकि वैज्ञानिकों ने इस पर से पर्दा हटा दिया है, वैज्ञानिकों का दावा है कि इस क्षेत्र में जहाजों और विमानों के लापता होने के पीछे हेक्सागोनल बादल जिम्मेदार हैं जिसमे पिछले 100 सालों में इसमें 75 विमान और 100 से ज्यादा छोटे-बड़े जहाज गायब हो चुके हैं.

Third party image reference
इसके चलते करीब 1000 से भी ज्यादा लोगों की मौत हो चुकी है, शायद आपको पता ना हो तो बतादें की यह दुनिया की सबसे रहस्यमयी जगह है जिसका नाम है ‘बरमूडा ट्रायंगल’ और यह वो इलाका है जिसके आस-पास से गुजरने वाली हर चीज़ रहस्यमय तरीक़े से अचानक ग़ायब हो जाती है.

Third party image reference
वैसे आपको बतादें की यहाँ पर जहाज़ हो या हवाई जहाज़, बरमूडा ट्रायंगल के आस-पास जो भी गया, वो हमेशा के लिए ग़ायब हो गया है.

Third party image reference
इनके पीछे नासा के सैटेलाइट ने धरती की कुछ ऐसी तस्वीरें खींची हैं जो बरमूडा ट्रायंगल के रहस्य से पर्दा हटा सकती हैं और नासा ने इनमें अटलांटिक महासागर में स्थित बरमूडा ट्रायंगल के ऊपर मंडराते बादलों की भी तस्वीर ली है.

Third party image reference
जब वैज्ञानिको ने यह तस्वीरें देखी तो वो भी चौंक गए क्यूंकि बरमूडा ट्रायंगल पर मंडराने वाले कुछ बादल आम बादलों से पूरी तरह अलग थे और इन सैटेलाइट की तस्वीरों में साफ़ साफ़ दिख रहा है कि बरमूडा ट्रायंगल के ऊपर मंडराने वाले कुछ बादलों का आकार हेक्सागन यानी छह कोणों जैसा दिखाई देता है पर वैज्ञानिकों की माने तो बादलों का आकार ऐसा नहीं होता है.

Third party image reference
सैटेलाइट की इन तस्वीर से पता चलता है की षटकोण जैसे दिखने वाले इन बादलों के नीचे 274 किलोमीटर प्रति घंटे की रफ़्तार से तूफ़ानी हवाएं चल रही थीं और यह तूफ़ानी हवाएं आसमान में करीब 45 फीट ऊंची लहर या बवंडर बनाती हैं जिसको देखके वैज्ञानिकों ने इसका नाम ‘एयर बॉम्ब’ दिया है.

Third party image reference
बरमूडा ट्रायंगल के रहस्य पर दुनिया में लोग अलग-अलग बात करते है जैसे की बरमूडा ट्रायंगल की ताकत के पीछे एलियन हैं पर कुछ वैज्ञानिकों का कहना है की बरमूडा ट्रायंगल वाली जगह पर समुद्र से मीथेन गैस का रिसाव हो रहा है, जिसकी वजह से वहां खास तरह का ग्रेविटेशनल फोर्स बनता है जिसकी वजह से यह आसपास की सभी चीजों को अपनी तरफ खींच लेता है.

Third party image reference
वैसे आपको बतादें की रहस्यमयी ताकतों से भरा यह बरमूडा ट्रायंगल साल 1609 में पहली बार चर्चा में तब आया था जब यहां से गुजर रहा अंग्रेज़ी जहाज द सी वेंचर्स अचानक ही ग़ायब हो गया था. बाद में जो भी विमान और जहाज समुद्र के इस हिस्से में आये वो हमेशा के लिए लापता हो गये.
तो यह थी बरमूडा ट्रायंगल से जुडी वो जानकारी जिसके बारे में शायद आपको पता नहीं होंगा.
रोजाना ऐसी ही अटपटी जानकारी के लिए हमें फ़ॉलो जरुर करें.

No comments:

Post a Comment

• अगर आप इस आर्टिकल के बारे में कुछ कहेंगे या कोई सवाल कमेंट में करेंगे तो हमें बहुत ख़ुशी होगी
• गलत शब्दों का प्रयोग न करे वरना आपका कमेंट पब्लिश नहीं किया जायेगा