5 ऐसे भारतीय खिलाड़ी जो कभी ग़रीब हुआ करते थे - SupportMeYaar.com

Trending Now

Post Top Ad

Monday, 24 June 2019

5 ऐसे भारतीय खिलाड़ी जो कभी ग़रीब हुआ करते थे

कुछ लोगो का ऐसा मानना है की क्रिकेट में लोग पैसो के लिए आते है, पर क्या आप जानते है उनको यहाँ तक पहुचने में कितना समय लगता है? आप भी अपने पसंदीदा खिलाड़ी के संघर्ष से जुड़ी कहानियां फिल्मों, किताबों या कही इंटरनेट पर से जानने को मिलती होगी.
पर आज हम आपको भारतीय क्रिकेट टीम के कई ऐसे खिलाडियों के बारे में बताने वाले है जो गरीबी से उठकर ऊंचे मुकाम तक पहुंचे हैं, तो चलिए जानते है ऐसे ही 5 क्रिकेटर्स के बारे में जो गरीबी से उठकर इस मुकाम तक पहुचे है.
हरभजन सिंह

Third party image reference
जैसे की हम सब जानते है की स्ट क्रिकेट में सबसे ज्यादा विकेट लेने वाले भारतीय गेंदबाजों में हरभजन सिंह तीसरे पायदान पर हैं, आपको बतादें की हरभजन से 1998 क्रिकेट में कदम रखा था और पहली सीरीज के बाद ही उन्हें तीन साल तक बाहर कर दिया था. एक बार तो उन्होंने कनाडा जाकर टैक्सी चलाने तक का फैसला कर लिया था पर साल 2001 में उनकी टीम में वापसी हो गई.
जहीर खान

Third party image reference
जहीर खान को मुंबई के नेशनल क्रिकेट क्लब में खेलने का मौका भी मिला था पर उन्हें हॉस्पिटल में काम करने वाली उनकी आंटी के साथ दूसरे शहर जाना पड़ा और वहा पर वह हॉस्पिटल के एक छोटे से कमरे में रहते थे और वहा पर कोई बेड भी नहीं था, वहा पर वो नौकरी करते थे पर साल 2000 में उन्हे नेशनल टीम में खेलने का मौका मिला.
उमेश यादव

Third party image reference
आपको बतादें की उमेश यादव के पिता कोल माइन में काम करते थे और वे बड़ी ही मुश्किल से अपने परिवार को वक्त का खाना दे पाते थे, बाद में उमेश ने अपनी कड़ी मेहनत के बल पर भारतीय टीम में शामिल हुए, वैसे आपको बतादें की आज उमेश भारत के सबसे तेज गेंदबाजों में एक हैं.
विरेंद्र सहवाग

Third party image reference
वीरेंद्र सहवाग की टक्कर कोई नहीं कर पाया था क्यूंकि उन्होंने टेस्ट में दो बार तीसरा शतक और वनडे में दोहरा शतक लगाये थे पर क्या आप जानते है की सहवाग के पिता एक गेहूं व्यापारी थे और वह 50 लोगों के सामुहिक परिवार में रहते थे. विअसे आपको बतादें की उन 50 लोगो का घर एक ही था और वीरेंद्र सहवाग को क्रिकेट प्रैक्टिस के लिए हर दिन 84 किमी का सफर करना पड़ता था.
रविन्द्र जडेजा

Third party image reference
आपको बतादें की रविन्द्र जडेजा वर्तमान में टॉप रैंक के टेस्ट गेंदबाज और ऑलराउंडर खिलाड़ी हैं, आपको बतादें की रविन्द्र जडेजा भी अपने शुरूआती समय में गरीबी की मार झेल चुके हैं. उनके पिता एक प्राइवेट कंपनी में वॉचमैन की नौकरी करते थे और उनकी मामूली तन्ख्वाह से बेहद ही मुश्किल से बमुश्किल घर का खर्च चल पाता था. बाद में जडेजा ने अपनी मेहनत के दम पर भारतीय टीम में जगह बनाई और उनके दिन अच्छे हो गये.
तो यह थे वो 5 भारतीय खिलाड़ी जो ग़रीबी से उठकर मशहूर हुए.
रोजाना ऐसी ही अटपटी ख़बरों के लिए हमें फ़ॉलो जरुर करें.

No comments:

Post a Comment

• अगर आप इस आर्टिकल के बारे में कुछ कहेंगे या कोई सवाल कमेंट में करेंगे तो हमें बहुत ख़ुशी होगी
• गलत शब्दों का प्रयोग न करे वरना आपका कमेंट पब्लिश नहीं किया जायेगा