फांसी की सज़ा देने के बाद जज पेन की निब क्यों तोड़ देते है, जानिए

हमारे देश में फांसी से बड़ी और कोई सज़ा नहीं है, वैसे देखा जाए तो किसी जघन्य अपराध करने वाले आरोपी को फांसी की सज़ा सुनाई जाती है. पर क्या आप जानते है की जज किसी को फांसी की सज़ा देने के बाद अपने पेन की निब को क्यों तोड़ देते है, यदि आपको नहीं पता तो चलिए जानते है क्यूंकि यह बेहद ही गहरा राज है.

Third party image reference
जज फांसी की सज़ा सुनाने के बाद इसीलिए पेन की निब तोड़ देते है की दोबारा ऐसा अपराध बिलकुल ना हो और इसका दूसरा भी एक मतलब होता है की इस सज़ा के बाद उस व्यक्ति का जीवन पूरी तरह से समाप्त हो जाता है इसीलिए पेन की निब को तोड़ दिया जाता है.

Third party image reference
वैसे आपको बतादें की जज ऐसा मानते है की जिस किसी अपराधी को फांसी की सजा दी है वो अपराधी की सजा का अंतिम निर्णय होता है और बाद में कभी ऐसी सज़ा ना सुनानी पड़े इसलिए वो इस पेन की निब को तोड़ देते है.

Third party image reference
जैसे की हम जानते है की फांसी की सजा का फैसला सबसे अंतिम फैसला होता है और इसके बाद इसकी प्रतिक्रिया को बदला नहीं जा सकता इसीलिए भी जज पेन की निब को तोड़ देते है.
तो अब आप समज गये होंगे की जज किसी अपराधी को फांसी की सज़ा देने के बाद पेन की निब क्यों तोड़ देते है.
रोजाना ऐसी ही अटपटी जानकारी के लिए हमें फ़ॉलो जरुर करें.
Previous article
Next article

Leave Comments

Post a comment

• अगर आप इस आर्टिकल के बारे में कुछ कहेंगे या कोई सवाल कमेंट में करेंगे तो हमें बहुत ख़ुशी होगी
• गलत शब्दों का प्रयोग न करे वरना आपका कमेंट पब्लिश नहीं किया जायेगा

loading...
loading...
loading...