2019 में कप्तान विराट कोहली के लगातार असफ़ल होने के 3 मुख्य कारण

जैसे की हम सब जानते है की सिर्फ 231 के लक्ष्य के बाद सभी को उम्मीद थी कि बैंगलोर की टीम जी जान लगा देगी पर ऐसा बिलकुल भी नहीं हुआ और बैंगलोर की टीम ने शुरुआत में ही हार मान ली.
बतादें की आइपीएल का 11वां मैच रॉयल चैलेंजर्स बैंगलोर और सनराइजर्स हैदराबाद के बीच में खेला गया था, उसमे हैदराबाद लगातार अच्छा परफॉर्म कर पॉइंट टेबल में टॉप-3 पर जगह बना ली है जब की दूसरी तरफ विराट की टीम को अब भी आइपीएल के इस सीजन में पहली जीत का इंतजार है.

Third party image reference
इसीलिए आज हम आपको आईपीएल में बार बार विराट कोहली क्यों असफल हो रहे है उसके कुछ कारण बताने वाले है जिसको जानना बेहद ही जरुरी है, तो चलिए जानते है की क्या है वो कारण जिससे विराट की टीम को बार-बार असफ़लता का सामना करना पड़ता है.
बैटिंग लाइन-अप में हो रहे है लगातार उतार-चढ़ाव

Third party image reference
जी हा दोस्तों आरसीबी का बल्लेबाजी क्रम इस सीजन में काफी संघर्ष करता दिख रहा है इसीलिए वो लगातार बैटिंग लाइन-अप में बदलाव करने की कोशिश कर रहा है, पर शायद आपको पता ना हो तो बतादें की हैदराबाद के खिलाफ मैच में यह तीसरी बार देखा गया है की बैंगलोर ने अपने ओपनिंग पेयर में बदलाव किया हो. बतादें की इस बार उन्होंने पार्थिव पटेल और शिमरॉन हेमयर को ओपनिंग जोड़ी की कमान सँभालने को दी थी, पर विराट को यह समज में नहीं आता की रातों-रात परिणाम नहीं निकल सकते.
वैसे आपको बतादें की एक बार विराट ने ओपनिंग की थी तो उसकी टीम को काफी ज्यादा फायदा मिला था पर इसके बावजूद भी विराट एक ही बार ओपनिंग करने के लिए आए है.
वर्ल्ड क्लास गेंदबाज भी हो रहे हैं नाकाम

Third party image reference
बतादें की हैदराबाद के खिलाफ बैंगलोर की गेंदबाजी बेहद ही कमज़ोर दिखी थी और इसी की वजह से आइपीएल के इतिहास की सबसे बड़ी ओपनिंग पार्टनरशिप देखी गई. शायद आपको पता ना हो तो बतादें की गौतम गंभीर और क्रिस लिन ने साल 2017 में 184 रनों की साझेदारी की थी जिसमे डेविड वॉर्नर (100) और जॉनी बेयरस्टो (114) के बीच 98 गेंदों में 185 रनों की साझेदारी हुई, तो अब बात यह है की इसमें कोई शक नहीं है की दोनों बल्लेबाजों ने कमाल की बैटिंग की लेकिन बैंगलोर के गेंदबाज भी सही जगह बॉल डालने में नाकाम रहे थे, बैंगलोर के गेंदबाज मैच के दौरान लगातार विकेट झटकने में असफल रहे थे. वैसे ये भी बतादें की युजवेंद्र चहल टीम के इकलौते गेंदबाज हैं जो सफल हुए हैं इसीलिए RCB को अपनी गेंदबाजी में जरूर बदलाव करने चाहिए.
मनोवैज्ञानिक प्रेशर की वजह से

Third party image reference
शायद आपको पता ना हो तो बतादें की इस टीम पर मैदान पर यही टीम काफी कमजोर नजर आती है और वो लगातार हार का मनोवैज्ञानिक असर टीम के प्रदर्शन पर साफ तौर पर पड़ रहा है, लेकिन हैदराबाद के खिलाफ इनमें से एक भी खिलाड़ी धैर्य से नहीं खेल सका और दो मैच पहले ही हार चुकि बैंगलोर पहले हैदराबाद को बड़ा स्कोर खड़ा करने से नहीं रोक सकी और फीर बाद में उस लक्ष को हासिल करने के लिए लड़ने की बजाय पहले ही हार मान ली और अपने सभी विकेट को धड़ाधड़ गवाना पड़ा.
तो यही कुछ कारण है जिसकी वजह से विराट कोहली को बार-बार असफ़लता का सामना करना पड़ता है.
रोजाना ऐसी ही अटपटी ख़बरों के लिए हमें फोलो जरुर करें.
वैसे आपको क्या लगता है इसके बारे में हमें कमेंट करके जरुर बताएं.

0/Comments = 0 / Comments not= 0

• अगर आप इस आर्टिकल के बारे में कुछ कहेंगे या कोई सवाल कमेंट में करेंगे तो हमें बहुत ख़ुशी होगी

Previous Post Next Post
loading...
loading...