महाभारत के इन योद्धाओं की थी सबसे कठिन अंतिम इच्छाएं, जाने कैसे कृष्ण ने इन्हें पूर्ण किया

जैसे की हम सब जानते है की महाभारत में ऐसे कई सारे प्रतापी योद्धा थे जिन्होंने भगवान श्री कृष्ण के सामने अपनी अंतिम इच्छाओं को प्रकट किया था, पर शायद आप नहीं जानते है तो आपको बतादें की भगवान् श्री कृष्ण के लिए इन इच्छाओं को पूरी करना आसान नहीं था, तो चलिए जानते है की क्या थी वो इच्छाएँ और किसने रखी थी.
विदुर:

Third party image reference
जैसे की हम सब जानते है की महाभारत के युद्ध के समय विदुर ने भगवान कृष्ण से भेट की थी, ऐसे में उन्होंने कृष्ण को बताया था की उनको यह युद्ध को देखकर बड़ी ही आत्मग्लानि महसूस हो रही है, और उसने कहा की में अपनी मृत्यु के बाद इस धरती पर अपने शरीर का थोडा सा भी अंश नहीं रहने देना चाहता, अब भगवान् कृष्ण ने विदुर की मृत्यु के बाद उनके शरीर को अपने सुदर्शन चक्र का हिस्सा बना लिया.
कर्ण:

Third party image reference
आपको बतादें की कर्ण ने अपने अंतिम क्षणों में भगवान कृष्ण के समक्ष अंतिम इच्छाएं प्रकट की उसको अगले जन्म में भगवान कृष्ण उन्हीं के राज्य अंगप्रदेश में जन्म लें और दूसरी इच्छा में उन्होंने कृष्ण से कहा कि उनका अंतिम संस्कार किसी ऐसी जगह पर किया जाए जहां आज तक कभी कोई पाप न हुआ हो. वैसे आपको बतादें की महाभारत के युद्ध के बाद इस धरती पर ऐसी कोई भी जगह शेष नहीं थी की जहा पर पाप नहीं हुआ हो इसीलिए भगवान कृष्ण ने उनका अंतिम संस्कार अपनी हाथों पर ही किया.
घटोत्कच:

Third party image reference
आपकी जानकारी के लिए बतादें की घटोत्कच ने भगवान कृष्ण से कहा था की मेरी के बाद मेरे इस शरीर को न जल में प्रवाहित करें, न भूमि में दफनाएं और ना ही अग्नि में दाह करे, मरे शरीर को सिर्फ वायु में विलीन कर दें और मेरी अस्थियों को भूमि पर इस प्रकार स्थापित करें कि मेरा यह कंकाल संपूर्ण महाभारत युद्ध का साक्षी बन सके, बाद में भगवान् श्री कृष्ण ने ऐसा ही किया.
तो कैसी लगी आपको हमारी यह जानकारी, हमें कमेंट करके जरुर बताएं.
रोजाना ऐसी ही अटपटी ख़बरों के लिए हमें फोलो जरुर करें.
Previous article
Next article

Leave Comments

Post a comment

• अगर आप इस आर्टिकल के बारे में कुछ कहेंगे या कोई सवाल कमेंट में करेंगे तो हमें बहुत ख़ुशी होगी

loading...
loading...
loading...