कौन है यमराज और कैसे चलाते है अपना साम्राज्य, सबकुछ जानिये - SupportMeYaar.com

Trending Now

Post Top Ad

Friday, 10 May 2019

कौन है यमराज और कैसे चलाते है अपना साम्राज्य, सबकुछ जानिये

जैसे की हम सब जानते है की पितृ पक्ष आरम्भ हो चुके हैं, जो 8 अक्टूबर 2018 तक चलेंगे, आपकी जानकारी के लिए बतादे की जिन लोगो की मृत्यु पितृ पक्ष में हुई होती है उनकी पुण्य आत्माएं इन 16 दिनों के लिए धरती पर वापस आ जाती है.

Third party image reference
इन 16 दिनों में जीवित परिजन उनका 16 दिनों का श्रद्धा पूर्वक उनका तर्पण क्रिया कर उन्हें प्रसन्न करते हैं और बदले में पितृ अपने परिवार के जीवित सदस्यों को आशीर्वाद देते हैं. इन पितरों की आत्मा जहा पर निवास करती है उस जगह को हम परलोक या मृत्यु लोक कहते हैं. इसके राजा यमराज है और आज हम आपको उन्हीके बारे में यहाँ पर बताने वाले है.
यमलोक में खुलते हैं 4 दरवाजे

Third party image reference
आपकी जानकारी के लिए बतादे की गरुड़ पुराण में यमलोक में चार द्वार बताए गए हैं जिसमे पूर्वी द्वारा से धर्मात्मा, दक्षिण द्वार से पापियों को प्रवेश मिलता है और साधु-संतों को उत्तर दरवाजे से और दान पुण्य करने वाले मनुष्यों को पश्चिम द्वार से प्रवेश मिलता है.
कैसा है यमलोक

Third party image reference
गरुड़ पुराण के अनुसार यमराज के महल को कालित्री नाम का एक विशाल महल आया हुआ है और इसके बारे में पद्म पुराण में भी उल्लेख मिलता है की यमलोक पृथ्वी से 86,000 योजन यानी करीब 12 लाख किलोमीटर दूर है. यह बहुत ही डरावना है क्यूंकि यहाँ पर सभी जीवों को तरह-तरह की यातनाएं दी जाती है.
आत्माओं को इस स्थान पर मिलता है तर्पण का फायदा
आपकी जानकारी के लिए बतादे की यमलोक में पुष्पोदका नाम की एक विशाल नदी है जिसमे अप्सराएं क्रीड़ा करती है जहा पर मृत्यु के बाद आत्माएं थोड़ी देर के लिए इस जगह पर आराम करती हैं और इसी जगह पर परिजनों द्वारा किया जाने वाला पिंडदान आत्माओं का प्राप्त होता है और उनको तृप्ति होती है.
रोजाना ऐसी ही जानकारी के लिए हमें फ़ॉलो जरुर करें.

No comments:

Post a Comment

• अगर आप इस आर्टिकल के बारे में कुछ कहेंगे या कोई सवाल कमेंट में करेंगे तो हमें बहुत ख़ुशी होगी
• गलत शब्दों का प्रयोग न करे वरना आपका कमेंट पब्लिश नहीं किया जायेगा

इसे भी जरुर पढ़े :