विराट कोहली को मिली कालामासी चिकन खाने की सलाह, जाने क्या है यह

जैसे की हम सब जानते है की विराट कोहली ने अपने शरीर में बढ़ रहे फैट और कोलेस्ट्रॉल की बढ़ती मात्रा को देखते हुए नॉनवेजिटेरियन फूड को अपनी लाइफ से हमेशा के लिए अलविदा कह दिया था, वैसे आपको बतादें की उन्होंने अपने फेवरेट ग्रिल्ड चिकन को भी छोड़ दिया था.

Third party image reference
वैसे तो हम सब जानते ही है की भारतीय टीम के कप्तान अपनी शानदार बल्लेबाजी के साथ साथ अपनी फिटनेस के लिए भी पूरी दुनिया में जाने जाते है और हमेशा सर्चा में रहते है, विराट अपनी फिटनेस को बनाये रखने के लिए एक्सरसाइज और योग दोनों करते है, साथ ही में वो एनी जरुरी वर्कआउट भी करते हैं.

Third party image reference
वैसे तो विराट अपने खान-पान को लेकर काफी ज्यादा स्ट्रिक्ट हैं पर पिछले कुछ दिनों से उन्होंने नॉनवेल खाने को पूरी तरह छोड़कर वेजिटेरियन खाना अपना लिया है पर अब यह खबर आ रही है की वो कालामासी चिकन यानि कि काले मुर्गे का मांस खाने की फ़िराक में है क्यूंकि ऐसा उनके फिटनेस एक्सपर्ट ने कहा है.
आपको बतादें की में झाबुआ के कड़कनाथ रिसर्च सेंटर (कृषि विज्ञान केंद्र) ने विराट कोहली को कड़कनाथ चिकन खाने की सलाह दी है साथ ही में भारतीय क्रिकेट कंट्रोल बोर्ड (BCCI) को लिखे पत्र में, कृषि विस्तार ने कोहली और अन्य खिलाड़ियों के डाइट प्लान से ग्रील्ड चिकन को हटाकर कड़कनाथ चिकन को शामिल करने की सलाह दी है.

Third party image reference
विराट कोहली ने अपने शरीर में फैट और कोलेस्ट्रॉल की बढ़ती मात्रा को देखते हुए नॉनवेजिटेरियन फूड को हमेशा के लिए अलविदा कह दिया था। यहां तक कि उन्होंने अपना फेवरेट ग्रिल्ड चिकन भी छोड़ दिया है। जब हाल ही में झाबुआ के कड़कनाथ रिसर्च सेंटर (कृषि विज्ञान केंद्र) ने विराट कोहली को कड़कनाथ चिकन खाने की सलाह दी है। भारतीय क्रिकेट कंट्रोल बोर्ड (BCCI) को लिखे पत्र में, कृषि विस्तार ने कोहली और अन्य खिलाड़ियों के डाइट प्लान से ग्रील्ड चिकन को हटाकर कड़कनाथ चिकन को शामिल करने की सलाह दी है। उनका कहना है कि यह चिकन वाकई में बहुत ज्यादा हेल्दी और सेहत के लिए अच्छा होता है। 'कड़कनाथ' चिकन मुर्गे की भारतीय नस्ल ही है जो मध्यप्रदेश के आसपास के इलाकों में पाए जाते हैं।
कितना फायदेमंद है कालामासी चिकन

Third party image reference
वैसे आपको बतादें की कड़कनाथ नामक मुर्गा सेहत के लिए बेहद ही ज्यादा फायदेमंद है और यह दूसरी प्रजाति के मुर्गो की तुलना में इसमें चर्बी और कोलेस्ट्रॉल काफी कम मात्रा में होता है. वैसे आपको बतादे की कड़कनाथ मुर्गे की तासीर गर्म होती है, इसीलिए इनको ऐसी ग्रेवी के साथ पकाया जाता है.
इस को बनाने के लिए इसमें चिकन बनाने से पहले ग्रेवी को अलग से बनाया जाता है साथ ही इसे और भी ज्यादा स्वादिस्ट बनाने के लिए प्याज, टमाटर, लहसुन, अदरक, हींग, जीरा पाउडर आदि को मिलाया जाता है, वैसे आपको बतादें की यह मुर्गा बेहद ही ज्यादा नर्म होता है और आसानी से पक जाता है.
तो क्या आपने भी कभी खाया है कालामासी चिकन, हमें कमेंट करके जरुर बताएं.
रोजाना ऐसी ही अटपटी ख़बरों के लिए हमें फोलो जरुर करें.
Previous article
Next article

Leave Comments

Post a comment

• अगर आप इस आर्टिकल के बारे में कुछ कहेंगे या कोई सवाल कमेंट में करेंगे तो हमें बहुत ख़ुशी होगी
• गलत शब्दों का प्रयोग न करे वरना आपका कमेंट पब्लिश नहीं किया जायेगा

loading...
loading...
loading...