गौतम बुद्ध का जीवन परिचय - SupportMeYaar.com

Trending Now

Post Top Ad

Friday, 17 May 2019

गौतम बुद्ध का जीवन परिचय

शायद आपको पता ना हो तो बतादें की भगवान् गौतम बुद्ध का जन्म ईसा से 563 साल पहले जब कपिलवस्तु की महारानी महामाया देवी अपने नैहर देवदह जा रही थीं, तो रास्ते में लुम्बिनी वन में हुआ था और आज यह लुम्बिनी नेपाल के तराई क्षेत्र में कपिलवस्तु और देवदह के बीच एक नौतनवा स्टेशन आता है वहा से 8 मील दूर पश्चिम में रुक्मिनदेई नामक स्थान है जहा पर बुद्ध का जन्म हुआ था.
Third party image reference
 उनका नाम सिद्दार्थ रखा गया, उनके पिता का नाम था शुद्धोदन और सिद्दार्थ के जन्म के सिर्फ सात दिन बाद ही उनकी माता का देहांत हो गया. बाद में सिद्दार्थ की मासी जिसका नाम गौतमी था उन्होंने ही सिद्दार्थ का पालन-पोषण किया था. सिद्धार्थ ने गुरु विश्वामित्र के पास वेद और उपनिषद्‌ तो पढ़े ही, साथ ही उन्होंने , राजकाज और युद्ध-विद्या की भी शिक्षा ली थी. शायद आपको पता ना हो तो बतादें की सिद्दार्थ रथ हांकने, कुश्ती, घुड़दौड़, तीर-कमान चलाने में एकदम माहिर थे.
Third party image reference
एक बार जब सिद्दार्थ को जंगल में किसी शिकारी द्वारा तीर से घायल किया हंस मिला तो उसे उन्होंने तुरंत ही उठा लिया अहर हंस के शरीर से तीर निकाला, बाद में हंस को पानी से नहलाया, सिद्दार्थ अभी हंस को नहला ही रहे थे तो उसी वक्त उनका चचेरा भाई देवदत्त वहां आया और कहने लगा कि यह शिकार मेरा है, मुझे दे दो.
Third party image reference
अब सिद्दार्थ ने हंस को देने से बिलकुल ही मना कर दिया और अपने सचेरे भाई से कहा की तुम तो इस हंस को मार रहे थे पर मैंने इस हंस को बचाया है, तो अब तुन ही मुझे बताओ को इस हंस पर मारने वाले का हक़ है की बचाने वाले का.
Third party image reference
अब देवदत्त ने सिद्धार्थ के पिता राजा शुद्धोदन से सिद्दार्थ के बारे में शिकायत की, तो राजा शुद्धोदन ने सिद्धार्थ से कहा कि यह हंस तुम देवदत्त को क्यों नहीं दे देते? आखिर तीर तो उसी ने चलाया था?
अब सिद्दार्थ ने उनके पिताजी को ऐसा कहा की पिताजी आप मुझे यह बताइए की में उड़ने वाले इस बेकसूर हंस पर तीर चलाने का ही देवदत्त को अधिकार किसने दिया, इस मासूम हंस ने देवदत्त का क्या बिगाड़ा था, मुझे इस प्राणी का दुःख देखा नहीं गया इसीलिए मैंने इनके प्राण बचाए है तो इस पर हक़ मेरा होना चाहिए.
Third party image reference
अब राजा शुद्धोदन को सिद्धार्थ की बात काफी पसंद आई और उन्होंने कहा की तुम्हारी बात एकदम ठीक है मारने वाले से बचाने वाला ही बड़ा है, इस पर तुम्हारा ही हक है.
इस घटना के बाद जब सिद्दार्थ की उम्र 16 वर्ष की हुई तो उनका विवाह दंडपाणि शाक्य की कन्या यशोधरा के साथ हुआ, अब राजा शुद्धोदन ने सिद्धार्थ के लिए भोग-विलास का भरपूर प्रबंध कर दिया, राजा ने उनके लिए सुंदर महल बनवा दिए और वही पर ही नाच-गान और मनोरंजन की सारी सामग्री जुटा दी गई.
इतना सब सुख होने के बावजूद भी सिद्धार्थ को संसार में बांधकर नहीं रख सकीं और ऐसे भोग-विलास में उनका मन नहीं फंसा, तो ऐसे थे हमारे भगवान गौतम बुद्ध.
 आपको यह जानकारी कैसी लगी, हमें कमेंट करके जरुर बताये.
रोजाना ऐसी ही जानकारियों के लिए हमें फोलो जरुर करें.

No comments:

Post a Comment

• अगर आप इस आर्टिकल के बारे में कुछ कहेंगे या कोई सवाल कमेंट में करेंगे तो हमें बहुत ख़ुशी होगी
• गलत शब्दों का प्रयोग न करे वरना आपका कमेंट पब्लिश नहीं किया जायेगा