FmD4FRX3FmXvDZXvGZT3FRFgNBP1w326w3z1NBMhNV5=
items

नमस्ते और नमस्कार में क्या फर्क है

दोस्तों आज हम आपको नमस्ते और नमस्कार क्या अर्थ है उनके बारे में बताने वाले है, तो चलिए जानते है.
नमस्ते और नमस्कार यह दोनों शब्दों का दृष्टि से भले ही अधिक अंतर नहीं पर प्रयोग में कुछ अंतर अवश्य है, दोनो में नमन का भाव है लेकिन ते और कार में थोड़ा अंतर है.
Third party image reference
आपको बतादें की ते का अर्थ है आप ते जिस आपके अर्थ में प्रयुक्त हुआ है वह माता पिता गुरू या उसके समकक्ष कोई व्यक्ति हो सकता है, वह ईश्वर भी हो सकता है, माता पिता से हम नमस्ते कहते हैं.
गुरु या आदरणीय व्यक्ति को नमस्ते कहना चाहिये और अनेक श्लोकों में इसीलिये नमस्ते शब्द का प्रयोग होता है न कि नमस्कार का, होटलों आदि के द्वार पर खड़े दरबान या स्वागतकर्मी नमस्ते शब्द का प्रयोग करते हैं.

Third party image reference
अब आपको बतादें की कार का अर्थ है किसी भाव का होना जैसे स्वीकार का अर्थ है स्व भाव का होना, नमस्कार का प्रयोग अपेक्षाकृत बराबर वाले लोगों के लिये होता है. मित्र, सहयोगी, साथ काम करने वाले और सभा को संबोधित करते समय नमस्कार कहना चाहिये, बहुत से लोगों को एक साथ नमन करना हो (जैसे सभा में या माइक पर) तो नमस्ते के स्थान पर नमस्कार कहना चाहिये.

यदि आपको यहाँ पर कुछ नया सिखने को मिला है तो हमें फ़ॉलो जरुर करें.

रोजाना ऐसी ही अटपटी ख़बरों के लिए हमें फ़ॉलो जरुर करें.


  1. कौमार्य फिर से मिल जाता था द्रौपदी को, जाने ऐसी ही कुछ रोचक बातें
  2. क्या आपके सपने में भी दिखाई देता है कोई अनजान चेहरा, तो इसे जरुर पढ़े
  3. क्या आपको पता है क्रिकेटर्स के बैट में लगाए जा रहे हैं छोटे-छोटे सेंसर, क्या है कारण जानिए
  4. क्या आपको सबसे तेज मोबाइल इंटरनेट स्पीड चाहिये तो यहां आइये
  5. घी को अंग्रेजी में क्या कहते है, सही जवाब आप भी नहीं दे सकते

0/Post a Comment/Comments

73745675015091643

Top News

[getBlock results="9" label="Top News" type="block2"]

Recipe

[getBlock results="5" label="Recipe" type="block1"]