क्या सच में जोमैटो ने हिंदू धर्म के बारे में कुछ गलत कहा है या यह सिर्फ एक अफवाह है, जानिए

SupportMeYaar Desk: दोस्तों जोमैटो ने कहा है कि खाने का कोई धर्म नहीं होता, ठीक वैसे ही जैसे आतंकवाद का इस देश में कोई धर्म नहीं होता. वह बात अलग है कि सारी दुनिया चीख चीख कर बता रही है पर हम भारतीय सुपर सेक्युलर जो ठहरे इसलिए आँखे बंद कर लेंगे.

twitter
वैसे आज भी अभी हाल ही में चार आतंकवादियों को इसलिए पकड़ा गया क्योंकि वह देश के एक बहुत बड़े और प्रसिद्ध मंदिर के प्रसाद में जहर मिलाकर कई हजार लोगों को एक साथ मारने का षड्यंत्र रच रहे थे.
अगर वह लोग अपने मंसूबों में कामयाब हो जाते तो हमारे देश के हजारों हिन्दू मौत की भेंट चढ़ जाते, पर तब भी उस जहर मिले प्रसाद का कोई धर्म नहीं होता क्योंकि वह तो सिर्फ खाना था और ना ही ज़हर मिलाने वाले लोगों को कोई धर्म होता क्योंकि वह आतंकवादी थे. धर्म तो सिर्फ उनका होता जो उसे खाकर मर जाते, क्योंकि वो मंदिर जो आए थे.

Third party image reference
जोमैटो को लगता है कि खाने का कोई धर्म नही होता पर यदि इस बारे में किसी मुस्लिम ग्राहक के पास हलाल मीट की जगह झटके का मीट चला जाता है तब वही खाना धार्मिक बन जाता है, जैसा कि खुद जोमैटो ने माना जब एक मुस्लिम ग्राहक ने इसकी शिकायत की.

twitter
हालांकि आपको बतादें की जोमैटो ने प्रत्यक्ष रूप से तो हिंदू धर्म के बारे में कुछ अपमानजनक नहीं कहा, पर इस तरह के दोगले व्यवहार के कारण जोमैटो की निंदा ज़रूर हो रही है और लोग उसे अपने मोबाइल फोंस से जोमैटो को अनइनस्टॉल भी कर रहे हैं.
वैसे आपको क्या लगता है इस बारे में.
रोजाना ऐसी ही अटपटी ख़बरों के लिए हमें फोलो जरुर करें.
Previous article
Next article

Leave Comments

Post a comment

• अगर आप इस आर्टिकल के बारे में कुछ कहेंगे या कोई सवाल कमेंट में करेंगे तो हमें बहुत ख़ुशी होगी

loading...
loading...