शहीद भगत सिंह के शव को दो बार क्यों जलाया गया - SupportMeYaar.com

Trending Now

Post Top Ad

Saturday, 28 September 2019

शहीद भगत सिंह के शव को दो बार क्यों जलाया गया

शायद आपको पता ना हो तो बतादें की भगतसिंह की की चिता को दो बार जलाया गया था, आपको बतादे की ये बात बिलकुल सच है उनकी चिता को दो बार आग के हवाले किया गया था। ऐसा नही की आजादी के मतवालो को मारना इतना आसान था इनको मारने की हिम्मत अच्छे अच्छों की नही होती थी लेकिन इनको धोखे से मारा जाता था ऐसा ही कुछ भगतसिंह के साथ हुआ।

Third party image reference
बतादें की भगतसिंह की मौत से जुड़ा सबसे बड़ा सच है ये की भगतसिंह, सुखदेव और राजगुरू को अंग्रेजो ने जनता के डर से एक दिन पहले ही फाँसी पर लटका दिया था उसके बाद इन बेरहम अंग्रेजो ने इनके शरीर के टुकड़े टुकड़े कर सतलज नदी के किनारे हुसैनी बाला के पास जलाया था लेकिन देश के लोगो को इन वीर पुत्रों का यहाँ पर जलाना अपमान जनक लगा उसके बाद स्वदेसियो ने सम्मान के साथ इन वीर पुत्रो का अंतिम संस्कार लाहौर के पास रावी नदी में किया था।

Third party image reference
इस बारे में ऐसा कहा जाता है की 23 मार्च 1931 को इन दोनों सेनानियो को फाँसी दे दी गई थी उसके बाद अंग्रेजी हुकूमत के अनुसार इनके शवो के टुकटे किए गई थे फिर इनको चुप चाप सतलज नदी के किनारे लेजाकर इनके शवो को बेहद अपमान के साथ जलाया जा रहा था लेकिन इस बात की खबर देशवासियों को लगी इसी इसी समय वहाँ हजारो की संख्या में लोग इकट्ठा हो गए जिनमे लाल लाजपत राय की बेटी पार्बती और भगतसिंह की बहन बीबी अमर कौर भी मौजूद थी।

Third party image reference
वहां की हालात और इतनी भीड़ को देख कर अंग्रेज उनके शवो को अधजला छोड़ वहाँ से भाग निकले उसके बाद देश के लोगो ने इन वीर पुरूषों के शव को सम्मान पूर्वक लाहौर में रावी नदी के किनारे जलाया था खबर के मुताबिक पता चला है की जब अंग्रेज इनके शव को अधजला छोड़ कर भाग गए थे तब इन लोगों ने इन तीनो के शव को जलती हुई आग से बाहर निकाला उसके बाद इनको लाहौर ले गए लाहौर में तीनों शहीदों के लिए तीन अर्थियां बनाई गई।
अब अंत में सम्मान पूर्वक इन तीनो की शव यात्रा निकाली गई उसके बाद हजारो लोगो की भीड़ के सामने इनको सम्मान पूर्वक अग्नि के हवाले किया गया, इस लिए कहा जाता है की भगतसिंह की चिता को दो बार अग्नि दी गई ही इस सच्ची घटना का वर्णन सुखदेव के भाई मथुरा दास ने अपनी किताब मेरे भाई सुखदेव में लिखा है।

वैसे आप क्या कहना चाहेंगे इस बारे में, हमे कंमेंट करके जरूर बताएं।

रोजाना ऐसी ही अटपटी खबरों के लिए हमे फ़ॉलो जरुर करें।

No comments:

Post a Comment

• अगर आप इस आर्टिकल के बारे में कुछ कहेंगे या कोई सवाल कमेंट में करेंगे तो हमें बहुत ख़ुशी होगी
• गलत शब्दों का प्रयोग न करे वरना आपका कमेंट पब्लिश नहीं किया जायेगा