क्या केंसर से पीड़ित व्यक्ति को सरकार से आर्थिक सहायता मिल सकती है?

दोस्तो, अगर कोई पेशेंट भारत मे कहीं भी निवास करता है और इलाज के लिये दिल्ली आ सकता है तो उसकी चिंता और रोग का निदान संभव है।

Third party image reference
वैसे आपको बतादे की अन्य राज्यो की बात तो छोड़िए दिल्ली और एन सी आर तक मे रहने वाले काफी लोगो को भी इस बात की जानकारी नही है कि दिल्ली केंसर इंस्टिट्यूट के नाम से दिल्ली में दो अत्याधुनिक हॉस्पिटल्स है जो किसी भी लिहाज से बेहतरीन प्राइवेट हॉस्पिटल्स से कम नही है। इनमे से एक हॉस्पिटल जनकपुरी वेस्ट दिल्ली में है और दूसरा दिलशाद गार्डन में है। इन दोनों हॉस्पिटल्स में कैंसर पेशेंट के लिये सारी सुविधाएं बिल्कुल मुफ्त है।

Third party image reference
बतादे की जहां तक सरकार से वित्तीय सहायता की बात है तो यदि आपने गूगल पर सर्च करके प्रधनमंत्री कोष, स्टेट रिलीफ फंड या किसी एन जी ओ इत्यादि की जानकारी प्राप्त की है तो वो आपके किसी काम नही आने वाली है। पहले तो इनमे से किसी एक से संपर्क में ही आपका हफ्तों से लेकर महीनों का वक्त खराब होगा और फिर ज्यादा से ज्यादा 50 से 70 हजार रुपयों की मदद मिलेगी जो कि आपके किसी काम इसलिए नही आएगी क्योंकि आप समय बर्बाद करने की बहुत बड़ी गलती कर चुके होंगे।

Third party image reference
आपको बतादे की केंसर का पेशेंट या उसके रिश्तेदार जो सबसे बड़ी गलती करते है और जो पेशेंट के लिये जानलेवा साबित होती है वह है समय की बर्बादी। सबसे पहले तो बीमारी का शक होते ही जल्दी से जल्दी उसका डाइग्नोसिस और ट्रीटमेंट शुरू किया जाना सर्वाधिक महत्वपूर्ण है। इस बात का अंदाजा आप इस बात से लगा सकते है कि इस बीमारी में इलाज का जल्द से जल्द शुरू किया जाना उपचार से भी बढ़कर माना गया है।
आपको इस बीमारी का जरा सा भी शक होते ही FNAC ( फाइन निडिल एस्पिरेशन) या PET CT टेस्ट की मदद से बीमारी के कन्फर्म होते ही तुरन्त इन दो में से किसी एक हॉस्पिटल का रूख कर लेना चाहिए।
विशेष : - सिर्फ इतना कहूंगा कि आयुर्वेदिक, होम्योपैथिक या किसी फार्मूले वाले डॉक्टर या बाबा के पास जाने वाला "विनाश काले विपरीत बुद्धि" को चरितार्थ करेगा और कुछ नही।
रोजाना ऐसी जानकारी के लिए हमे फॉलो जरूर करें।
Previous article
Next article

Leave Comments

Post a comment

• अगर आप इस आर्टिकल के बारे में कुछ कहेंगे या कोई सवाल कमेंट में करेंगे तो हमें बहुत ख़ुशी होगी

loading...
loading...
loading...