कॉल सेंटर को पढ़े लिखे बेरोजगारों का एकमात्र सहारा क्यो कहा जाता है? - SupportMeYaar.com

Breaking

loading...

Monday, 13 April 2020

कॉल सेंटर को पढ़े लिखे बेरोजगारों का एकमात्र सहारा क्यो कहा जाता है?

दोस्तो सबसे पहले तो देखिए मैं आपको बताता हूँ कॉल सेंटर में कैसे लोग काम करते हैं, आप ख़ुद अंदाज़ा लगाइए की उसे बेरोजगार लोगों का एकमात्र सहारा कहने में कोई ग़लती नहीं है ।

Third party image reference
सबसे पहले तो आपको बतादें की कॉल सेंटर में वो लोग काम करते हैं जिन्हें अपने फील्ड का काम मिलता नहीं है और दूसरे फील्ड वाले काम देते नहीं हैं। ऐसे में कॉल सेंटर ही सहारा बनता है । वह सभी का स्वागत करता है । 12वीं से लेकर उच्च शिक्षा तक!
जो लोग नोकरी नहीं करना चाहते थे और खुद का कोई व्यवसाय किया लेकिन असफल रहे । उन्हें किसी की सामने से सुनने की आदत नहीं रहती है क्योंकि ख़ुद का काम किया है । हर नोकरी में लगभग आपको बॉस की सुननी ही पड़ेगी आप कितना भी अच्छा काम कर लो । लेकिन कॉल सेंटर में आप अपनी क़्वालिटी अच्छी रखिये, कॉल नंबर पूरे कीजिये बस आपका काम हो गया।

Third party image reference
इसमे आप सुबह जाकर लॉगिन करो, शाम को लॉगआउट दुनिया से कोई मतलब नहीं । अगर आप नहीं चाहते तो पड़ोसी कलीग से भी बात न करो! तो भी चलेगा।
बतादें की जो सरकारी नौकरी की तैयारी करते करते थक जाते हैं और घर वाले अब पैसे भेजते भेजते सेचुरेट हो चुके । उन्हें एक सहारा चाहिए खर्च निकालने के लिए । उन्हें कॉल सेंटर में कोई अपना भविष्य नहीं बनाना ।बस साल-छः महीने काम करना है । जब तक नौकरी मिले या नौकरी की तैयारी चले, ऐसे लोग भी यहा पर काम करते है।

Third party image reference
शादीशुदा महिलाएं जो बाहर लोगों के बीच रहकर काम नहीं करना पसंद करती हैं । या फिर पढ़ी लिखी तो हैं लेकिन ऐसे किसी काम की पति से अनुमति नहीं है । कॉल सेंटर में आपको सिर्फ कॉल पर बात करनी है ग्राहक से । न किसी से मिलना , न किसी से सामने से बात करनी । तो अक्सर ऐसे लोग भी मिल जाते हैं जो यहां पर काम करते है।
इज़्ज़त बचाने की खातिर यानी कि कुछ लोग ऐसे भी है जो अक्सर इस कैटेगरी में इंजीनियर लोगों को रखा जाए तो सही है । इन्हें न तो नौकरी करनी है यहाँ, न यहां से पैसा कमाकर कुछ अपना व्यवसाय बनाना है । समाज का बेरोजगार का ठप्पा न लगे इसलिए, जब तक कुछ नहीं मिलता यहीं कर लेते हैं यार ! ऐसी वाली फीलिंग के साथ यहा पर काम कर लेते हैं ।
कुछ ही रियर लोग होते हैं जो यहां कैरियर बनाने के उद्देश्य से आते हैं वरना अक्सर सभी की कुछ परेशानी होती हैं जब तक परेशानी तब तक कॉल सेंटर ! परेशानी खत्म तो अपुन ही भगवान है फिर तो … कौन करेगा कॉल सेंटर की नॉकरी !
#कोई इंजीनियर भाई/बहन दिल पर न ले ! जिन लोगों से मिला हूँ उसके आधार पर लिख दिया है।

वैसे आपका क्या कहना है, हमे कमेंट करके जरूर बताएं।

रोजाना ऐसी ही अटपटी ख़बरो के लिए हमे फॉलो जरूर करें।

No comments:

Post a comment

• अगर आप इस आर्टिकल के बारे में कुछ कहेंगे या कोई सवाल कमेंट में करेंगे तो हमें बहुत ख़ुशी होगी
• गलत शब्दों का प्रयोग न करे वरना आपका कमेंट पब्लिश नहीं किया जायेगा