प्लास्टिक से बने चावलों की पहचान कैसे करें? जानिए

जैसे कि हम सब जानते है कि धान के बीज को चावल कहते हैं। यह धान से ऊपर का छिलका हटाने से प्राप्त होता है। चावल सम्पूर्ण पूर्वी जगत में प्रमुख रूप से खाए जाने वाला अनाज है।

Third party image reference
बतादें की भारत में भात, खिचड़ी सहित काफी सारे पकवान बनते हैं। चावल का चलन दक्षिण भारत और पूर्वी-दक्षिणी भारत में उत्तर भारत से अधिक है।
बतादें की बड़े-बड़े व्यापारी पैसा कमाने के लिए इन कामों को अंजाम देते हैं। सबसे बड़ी बात यह चावल बिल्कुल असली चावल जैसा दिखाई देता है और इसको खाने से गंभीर बीमारियां हो सकती है।
कैसे बनता है नकली चावल

Third party image reference
बतादें की नकली चावल बनाने के लिए आलू के स्टार्च को प्लास्टिक के साथ मिक्स किया जाता है। इसके बाद मिक्सर मशीन में डालकर चावल को आकर दिया जाता है। यह काम अधिकतर चीन में होता है।
कैसे करें असली और नकली चावल की पहचान

Third party image reference
अब आपको यह भी बतादें की सबसे पहले थोड़े से कच्चे चावल को एक पानी भरे बर्तन में डालें यदि चावल पानी में बैठ जाए तो वह असली है और अगर तैरने लगे तो समझ जाइए कि उसमें कुछ मिलावट है।
आप इस तरह भी पहचान कर सकते है जैसे कि चावल को जलाकर भी देख सकते हैं। चावल जलाने में को भी प्लास्टिक की महक आने लगती है। चावल को कूटकर भी चेक कर सकते हैं, यदि कूटने पर चावल का रंग बदल जाता है, तो वह नकली हो सकता है।

कैसी लगी आपको यह जानकारी, हमे कंमेंट करके जरूर बताएं।

रोजाना ऐसी ही अटपटी खबरों के लिए हमे फ़ॉलो जरूर करें।

Previous article
Next article

Leave Comments

Post a comment

• अगर आप इस आर्टिकल के बारे में कुछ कहेंगे या कोई सवाल कमेंट में करेंगे तो हमें बहुत ख़ुशी होगी
• गलत शब्दों का प्रयोग न करे वरना आपका कमेंट पब्लिश नहीं किया जायेगा

loading...
loading...
loading...