रामायण के इन श्लोकों के पाठ से मिलता है मर्यादा पुरुषोत्तम भगवान राम का आशीर्वाद - SupportMeYaar.com

Trending Now

Post Top Ad

Saturday, 12 October 2019

रामायण के इन श्लोकों के पाठ से मिलता है मर्यादा पुरुषोत्तम भगवान राम का आशीर्वाद

दोस्तों, वैसे देखा जाए तो धार्मिक कथाओं के अनुसार भगवान श्री राम को विष्णु भगवान का सातवां अवतार माना जाता है।

Third party image reference
आपको बतादें की इस अवतार में भगवान विष्णु ने समस्त लोकों को मित्रता और मर्यादा में रहने का संदेश दिया है। भगवान श्रीराम के इस अवतार को मर्यादा पुरुषोत्तम के नाम से भी जाना जाता है।

Third party image reference
बतादें की प्रभु श्री राम की महिमा का गुणगान हर तरफ किया जाता है। बतादें की भगवान श्रीराम की समस्त महिमा का गुणगान रामचरितमानस यानि रामायण में वर्णित है।
कुछ मान्यताओं के अनुसार रामायण के कुछ श्लोकों के पाठ से ही जीवन सफल हो जाता है। तो आज ही के दिन यानी कि दशहरा के दिन भगवान राम ने रावण का वध कर राक्षस कुल का नाश किया था ।
बतादें की इस दिन अगर रामायण के इन श्लोकों का पाठ किया जाएं तो समस्त पापों से मुक्ति मिलती है और प्रभु श्री राम का आशीर्वाद मिलता है। 

Third party image reference
तो नीचे हम आपको वो श्लोकों के बारे में बताते है जिसके जाप से आपका जीवन सफ़ल हो जाएगा।

रामायण के श्लोक

कवन सो काज कठिन जग माहीं। जो नहिं होइ तात तुम्ह पाहीं॥
राम काज लगि तव अवतारा। सुनतहिं भयउ पर्बताकारा॥

जे सकाम नर सुनहि जे गावहीं |
सुख सम्पति नाना बिधि पावहिं ||

'जिमि सरिता सागर महुं जाही। 
जद्यपि ताहि कामना नाहीं।।

तिमि सुख संपति बिनहिं बोलाएं। 
धरमसील पहिं जाहिं सुभाएं।।'

हनूमान तेहि परसा कर पुनि कीन्ह प्रनाम।
राम काजु कीन्हें बिनु मोहि कहाँ बिश्राम ॥


तो दोस्तो इन श्लोकों का पाठ करने से आपको सभी दुःख और दर्द दूर हो जाएंगे।

हमे फॉलो करना बिलकुल ना भूले।

No comments:

Post a Comment

• अगर आप इस आर्टिकल के बारे में कुछ कहेंगे या कोई सवाल कमेंट में करेंगे तो हमें बहुत ख़ुशी होगी
• गलत शब्दों का प्रयोग न करे वरना आपका कमेंट पब्लिश नहीं किया जायेगा