रामायण: रामराज्य से जुड़े ऐसे फैसले जिसे जानकर आप भी रह जायेंगे दंग - SupportMeYaar.com

Trending Now

Post Top Ad

Friday, 15 November 2019

रामायण: रामराज्य से जुड़े ऐसे फैसले जिसे जानकर आप भी रह जायेंगे दंग

जैसे की हम सब जानते है की रामायण हिंदू धर्म का बहुत ही बड़ा पवित्र ग्रथं माना जाता हैं, तो वही रावण का वध करने के बाद जब प्रभु श्रीराम अयोध्या लौटे तब इनका राज्याभिषेक भी किया गया और रामराज्य शुरू हो गया। तो ऐसी कथाएं हैं कि राम राज्य में प्रकृतिय अनुकूल चलती थी, पिता के जीवित रहते हुए कभी पुत्री की मृत्यु नहीं होती थी।

Third party image reference
तो आज हम यहाँ पर ऐसे ही कुछ रामराज्य के फैसले के बारे में जानते वाले है जिसके बारे में जानकर आप हैरान हो जायेंगे, तो चलिए जानते है।
बतादें की मौसम समय से बदलते हर तरफ सुख शांति और खुशहाली लाता है। इसलिए आज भी अच्छे शासन की तुलना रामराज्य से की जाती हैं। मगर राम राज्य में प्रभु श्रीराम ने ऐसे फैसले किए जिसे जानकर आप हैरान रह जाएंगे कि भगवान राम ऐसा कैसे कर सकते हैं।

Third party image reference
बतादे की रामचंद्र जी के राजा बनने के कुछ समय बाद ऋषि मुनि श्रीराम के पास सुंदर नामक असुर की शिकायत लेकर पहुंचे। अब असुर को दंड देने के लिए श्री राम जी ने भरत को भेजना चाहते थे मगर छोटे भाई शत्रुघ्न ने कह दिया कि भरत भैय्या ने आपकी काफी सेवा कि हैं मुझे भी आपकी सेवा का अवसर मिलें।
अब ऐसे में श्री राम की इच्छा को बीच में काटते हुए अपनी इच्छा व्यक्त कर दी। सो राम जी ने शत्रुघ्न को सुंदर का वध करने के लिए सेना सहित जाने का आदेश दिया। साथ ही सुंदर की नगरी का राजा भी बना दिया और कहा गया कि अब से तुम सुंदर की नगरी में ही रहो और वहां की राज काज देखों।

Third party image reference
अब भगवान के इस आदेश से शत्रुघ्न दुखी हो गए कि बड़े भाई के आदेश को काटने की वजह से उन्हें सभी से दूर जाना पड़ रहा हैं ऐसे में सुंदर का वध करने के बाद शत्रुघ्न ने मथुरापुरी राज्य बसाया और 12 साल तक यहां रहने के बाद वापस श्रीराम से आकर मिलें।
बतादें की माता सीता की लंका में अग्नि परीक्षा हो चुकी थी और श्री राम को इस बात का पूरा भरोसा था कि देवी सीता पतिव्रता हैं पर फिर भी इसके बावजूद एक धोबी ने देवी सीता के चरित्र को लेकर सवाल उठा दिया। श्री राम ने राजधर्म का पालन करते हुए देवी सीता को वनवास भेजने का आदेश दिया और वह भी उस समय जब देवी सीता गर्भवती थी।

वैसे आपको क्या लगता है इस बारे में, हमें कमेंट करके जरुर बताये।

रोजाना ऐसी ही चटपटी ख़बरों के लिए हमें फ़ॉलो जरुर करें।

No comments:

Post a Comment

• अगर आप इस आर्टिकल के बारे में कुछ कहेंगे या कोई सवाल कमेंट में करेंगे तो हमें बहुत ख़ुशी होगी
• गलत शब्दों का प्रयोग न करे वरना आपका कमेंट पब्लिश नहीं किया जायेगा