प्रेग्नेंसी के दौरान हर 5 मिनट पर मरती है एक भारतीय मां, जाने क्यों

आपको बतादें की डब्ल्यूएचओ ने एक बयान में कहा, "वास्तव में दो तिहाई मौतें बच्चा पैदा होने के बाद होती हैं, इस बारे में सबसे बड़ी समस्या प्रसव के बाद ब्लीडिंग की है।
Third party image reference
बतादें की आपातकालीन प्रसव के बाद गर्भाशय के फट जाने से प्रति एक लाख में 83 माताएं मौत की शिकार हो जाती हैं मातृत्व मृत्यु दर 17.7 प्रतिशत है जबकि नवजात मृत्यु दर 37.5 प्रतिशत है।
आपको बतादें की बच्चे के जन्म के 24 घंटे के अंदर यदि महिला का 500 मिली लीटर या 1000 मिली लीटर रक्त निकले तो वह ब्लीडिंग (पीपीएच) की परिभाषा के तहत आएगा.
ऐसी हमारे भारत में ब्लीडिंग की घटनाएं बहुत अधिक होती हैं, इसलिए ऐसा नहीं लगता कि देश सहस्राब्दी विकास लक्ष्य (एमडीजी) 5 हासिल कर पाएगा।
बतादें की एमडीजी के तहत मातृत्व मृत्यु कम करने और सबको प्रजनन संबंधी स्वास्थ्य सेवा उपलब्ध कराने का लक्ष्य निर्धारित किया गया है.
इस बारे में आपको बतादें की एम बयान में ऐसा कहा गया है कि भारत में मातृत्व मृत्यु दर के वर्ष 2011-13 के ताजा आकलन के अनुसार हर एक लाख बच्चा पैदा होने के दौरान 167 माताओं की मौत हो जाती है।
बतादें की यह आकलन यह भी दिखाता है कि भौगोलिक रूप से कितना अंतर है। बतादें की सबसे अधिक 300 मौतें असम में और सबसे कम 61 मौतें केरल में हुई है।
आपको क्या लगता है इस बारें में, हमे कंमेंट करके जरूर बताये।
रोजाना ऐसी ही अटपटी ख़बरों के लिए हमे फ़ॉलो जरूर करें।
Previous article
Next article

Leave Comments

Post a comment

• अगर आप इस आर्टिकल के बारे में कुछ कहेंगे या कोई सवाल कमेंट में करेंगे तो हमें बहुत ख़ुशी होगी
• गलत शब्दों का प्रयोग न करे वरना आपका कमेंट पब्लिश नहीं किया जायेगा

loading...
loading...
loading...