दुल्हे को दुल्हन के घर देनी पड़ती है ये परीक्षा

0

भारत देश दुनिया का एक ऐसा देश है जहां हर गांव और हर शहर में अनोखे रिती-रिवाज का होना आम बात है। बच्चे के जन्म से लेकर उसकी मृत्यु इतने प्रकार के रिवाजों से होकर गुजरना पड़ता है की दूसरे देशों के लिए यह चर्चा का विषय तक बन जाता है। इंसान के जीवन में उसकी शादी एक लम्हा होता है जिसे वह पूरी जिंदगी याद रखता। आज हम आपको एक ऐसी शादी के बारे में बताने जा रहे हैं जिसमें दूल्ले को एक ऐसा टेस्ट देना होता है की उसमें पास नहीं होने पर उसकी कभी शादी भी नहीं होती है।

मध्यप्रदेश से अलग होने के बाद छतीसगढ़ के दोनों राज्यों में कुछ ऐसी जनजातियां और आदिवासी जातियां रहती है, जो आज भी सदियों से चली आ रहीं प्रथाओं को मानती है। यह जातियां हर प्रकार की रस्में पूराने तौर तरीकों से करती है और इसी वजह से इनकी अलग ही पहचान बनी हुई है। इन जातियों में विवाह के समय एक ऐसी प्रथा का पालन करना होता है जिसमें दूल्ले को दुल्हन के घर में एक जानवर का खून पीना पड़ता है।

जब दूल्हा अपने परिवार के साथ दल्हन के घर जाता है तो वह अपने साथ एक जिंदा सुअर भी लेकर जाात है। जब शादी की सारी रस्तें खत्म हो जाती है तो उसके बाद दुल्हे को एक ऐसी रस्म को पूरी करना होता है जो हर किसी के लिए आसान नहीं है। इस रस्म को निभाने के लिए दूल्हे को जिंदा सूअर को मारकर सूअर के पैर से खून पीना होता है और अगर इस रस्म को पूरा नहीं किया जाता है तो विवाह अधूरा ही माना जाता है।

Previous article
Next article

Leave Comments

Post a comment

• अगर आप इस आर्टिकल के बारे में कुछ कहेंगे या कोई सवाल कमेंट में करेंगे तो हमें बहुत ख़ुशी होगी

loading...
loading...
loading...