दुनिया का मनहूस और एकलौता ऐसा गाना, जिसे सुनकर खुदकुशी कर लेते थे लोग, जानिए

हंगरी के एक संगीतकार रेजसो सेरेज ने 'ग्लूमी संडे' नाम का गाना था। इस गाने पर लोगों का इतना असर हुआ कि इसे सुनने के बाद बड़ी संख्या में लोगों ने आत्महत्या कर ली थी। 




इस कारण से बीबीसी ने इस गाने पर 62 वर्ष का प्रतिबंध लगा दिया था। वर्ष 2003 में इस पर से प्रतिबंध हटा दिया गया था। इसके बाद लोगों ने इससे मिलते जुलते ऐसे ही गीत ‍बनाए लेकिन जिन्होंने इस गीत को गाया, वे अमर हो गए।

अक्सर जब लोगों का मन उदास होता है तो वे अक्सर ऐसे भावुक गानों को सुनना पसंद करते हैं जिसमें एक प्रेमी या प्रेमिका दूसरे के लिए अपनी भावनाएं क्या, अपनी जान तक देने की बात करते हैं। ऐसे बहुत से गाने हैं लेकिन एक गाना ऐसा भी है जिसे सुनने के बाद लोग आत्महत्या कर लेते थे इस कारण से के बजाए जाने पर रोक लगा दी गई थी।

वर्ष 1933 में हंगरी के एक संगीतकार सेरेस ने 'सैड संडे' या 'ग्लूमी संडे' नामक एक गाना बनाया था। प्यार से जुड़ा ये दुनिया का सबसे दर्द भरा गाना माना जाता है। 


इस गाने में इतना दर्द था कि जो इस गीत को एक बार सुनता उसे अपने दर्द याद आ जाते थे। जब कई लोगों ने गाने को सुनने के बाद आत्महत्या तक कर ली तब इस गाने को इतना मनहूस माना जाने लगा कि इसे 62 साल के लिए बैन कर दिया गया।


इस गाने में प्रेमकहानी का दर्द बयां किया गया है जिसे सुनकर लोग आत्महत्या करने लगे। इस सिलसिले को रोकने के लिए एक जादूगर ने फिर से गाने को कंपोज किया, लेकिन आत्महत्या करने का सिलसिला जारी रहा। 

साल 1941 में गाने पर प्रतिबंध लगा दिया गया जिसके बाद 2003 में इस गाने से बैन हटा लिया गया। आप भी इस गाने के सुनकर जान सकते हैं कि लोग इसे मनहूस क्यों कहते हैं?

0/Comments = 0 / Comments not= 0

• अगर आप इस आर्टिकल के बारे में कुछ कहेंगे या कोई सवाल कमेंट में करेंगे तो हमें बहुत ख़ुशी होगी

Previous Post Next Post
loading...
loading...
loading...
loading...