गले में लटका कोरोना कार्ड तो नहीं होगा कोरोना, जाने क्या है इसकी सच्चाई


जैसे की हम सब जानते है की कोरोना काल में लोग इस संक्रमण से बचने के लिए सरकार द्वारा जारी किये गए दिशा निर्देशों का पालन कर रहे हैं।  इस वायरस से बचने के लिए ज्यादातर लोग “मास्क, हैंड सैनिटाइजर और सोशल डिस्टेंसिंग का पालन रहा है। लेकिन इन दिनों बाज़ार में अब कई ऐसे प्रोडक्ट आ चुके है, जो कोरोना वायरस से बचाव के नाम पर बिक रहे हैं। ऐसा ही एक प्रोडक्ट है- “Virus Shut Out” जिसे लोग इस्तेमाल में ला रहे हैं।

ऐसे में कुछ लोगो का यह दावा है कि यह कार्ड वायरस को दूर रखता है और अगर कोई शख्स अपने गले में कार्ड पहनता है, तो वह महामारी में सुरक्षित रह सकता है। इस कार्ड की कीमत बनावट में गुणवत्ता के आधार पर 200 से 400 रुपये के बीच है। आईडी कार्ड की तरह दिखने वाले प्रोडक्ट में नेमटैग की जगह केमिकल से भरा एक छोटा नीला पैकेट होता है, जो की एक पोर्टेबल एयर प्यूरिफायर की तरह काम करता है। कार्ड में लो कंसंट्रेशन क्लोरीन डाईऑक्साइड होता है, जो बैक्टीरिया और वायरस को दूर रखता है। ये 1 मीटर के दायरे की हवा को सुरक्षित करता है। साथ ही SARS-CoV-2 वायरस को खत्म करता है। क्लोरीन डाईऑक्साइड एंटी-वायरल एजेंट होते हैं।

बतादें की लखनऊ के नरही क्षेत्र की एक मेडिकल शॉप के सेल्समैन रवि कृष्णा ने कहा, “कार्ड बड़ी संख्या में बिक रहे हैं, क्योंकि लोगों को लगता है कि वायरस को भगाने का यह सबसे आसान तरीका है। हम जो कार्ड बेच रहे हैं वो तीन महीने में एक्सपायर होता है।”हालांकि, यह प्रोडक्ट कोरोना वायरस संक्रमण से बचा​​एगा -इस दावे का कोई प्रूफ़ नहीं है।  अमेरिका, वियतनाम, थाईलैंड और फिलीपींस में इसे बैन कर दिया गया है। लेकिन भारत में अब भी यह बिक रहा है।
Previous article
Next article

Leave Comments

Post a comment

• अगर आप इस आर्टिकल के बारे में कुछ कहेंगे या कोई सवाल कमेंट में करेंगे तो हमें बहुत ख़ुशी होगी
• गलत शब्दों का प्रयोग न करे वरना आपका कमेंट पब्लिश नहीं किया जायेगा

loading...
loading...
loading...