क्या आप जानते है, व्रत में क्यों करते सेंधा नमक का उपयोग

आपको बतादें की सेंधा नमक सबसे शुद्ध होता है। इसे बनाने के लिए किसी भी तरह के कैमिकल्स का इस्तेमाल नहीं किया जाता है इसलिए व्रत में सिर्फ सेंधा नमक ही खाया जाता है। यह न केवल कम खारा होता है बल्कि इसमें आयोडीन की मात्रा भी नहीं पाई जाती।


आयुर्वेद के अनुसार, रोजाना इसका सेवन शरीर को कई बीमारियों से दूर रखता है।

बतादें की सेंधा नमक में साधारण नमक की अपेक्षा सोडियम की मात्रा कम होती है और पोटेशियम और मैग्नीशियम की मात्रा अधिक होती है। ऐसे में इससे आप दिल ही नहीं बल्कि अन्य बीमारियों से भी बचे रहते हैं।

1 गिलास गर्म पानी में सेंधा नमक मिलाकर पीने से मेटाबॉलिक रेट और पाचन तंत्र बेहतर होता है। 

मेटाबॉलिक रेट बढ़ने से वेट कंट्रोल रहता है और बॉडी में जमा फैट धीरे-धीरे निकलता जाता है।

इससे कोलेस्ट्रॉल भी कंट्रोल में रहता है, जिससे हार्ट अटैक का खतरा कम होता है। इसके अलावा रोजाना इसका सेवन आपको दिल की बीमारियों से भी दूर रखता है।

नमक वाला पानी पीने से खाना आसानी से पच जाता है। यह मुंह में लार वाली ग्रंथी को सक्रिय करने में मदद करता है जिससे खाने के पचने की प्रक्र‍िया बेहतर होती है।

इसमें कुछ ऐसे तत्व पाए जाते हैं, जिससे सेरोटोनिन और मेलाटोनिन हार्मोन्स बैलेंस रहते हैं। इससे स्ट्रेस दूर होता है और दिमाग को तनाव से लड़ने की ताकत भी मिलती है।

उम्मीद है आपको जानकारी पसंद आयी होंगी।

0/Comments = 0 / Comments not= 0

• अगर आप इस आर्टिकल के बारे में कुछ कहेंगे या कोई सवाल कमेंट में करेंगे तो हमें बहुत ख़ुशी होगी

Previous Post Next Post
loading...
loading...
loading...
loading...