अपने भारत के इस महान शासक ने भारत और चीन युद्ध के समय कर दिखाया था ऐसा अनोखा काम जिससे दुनिया मे हुई तारीफ - SupportMeYaar.Com

Popular Posts

अपने भारत के इस महान शासक ने भारत और चीन युद्ध के समय कर दिखाया था ऐसा अनोखा काम जिससे दुनिया मे हुई तारीफ

Share it:
हमारे देश में महिला के चरित्र, दलितो की प्रतिभा और मुसलमानों की देशभक्ति पर हमेशा से शक किया जाता रहा है। लेकिन आज में आपको एक ऐसे मुस्लिम व्यक्ति का सच बताउगा। जिसने देश के लिए किये गए कार्य को जानकर कम से कम मुसलमानों की देशभक्ति पर सवाल उठाने वालों के जुबान पर ताला जरूर लग जाएगा। तो आइये जानते है भारत को 5 टन सोना दान करने वाले मुस्लिम व्यक्ति का सच।
भारत को 5 टन सोना दान करने वाले मुस्लिम व्यक्ति का सच, जो इतिहास के पन्नो में दर्ज हो गया।





हैदराबाद के नवाब महबूब अली खान के बेटे मीर उस्मान अली खान ने वो किया जो आजतक भारत के लिए कोई नही कर पाया। उन्होंने चीन से होने वाले युद्ध की तैयारियों के लिए जरूरी पैसों की पूर्ति करने के लिए पूरा 5 टन सोना भारत सरकार को दान कर दिया था। 1965 में दान किये गए 5 टन सोने की कीमत आज के जमाने मे करीब 1500 करोड़ रुपए होगी। हैदराबाद के मीर उस्मान अली खान भारत के सबसे अमीर व्यक्ति थे उनकी अमीरी का अंदाजा इस बात से ही लगाया जा सकता है की उनका खुद का एक बैंक था। उन्होंने ही 1944 में स्टेट बैंक हैदराबाद की स्थापना की जो बाद में बदलकर स्टेट बैंक ऑफ इंडिया बन गया। उन्हें मिलेनियर ऑफ द वर्ल्ड का रिकॉर्ड भी मिल चुका है। मीर उस्मान अली भारतीय इतिहास में सबसे अधिक दान देने वाले व्यक्ति है ना इससे पहले और ना इसके बाद व्यक्तिगत या सामूहिक रूप से इतना बड़ा दान दिया गया। उनके द्वारा देश के लिए दिया गया दान इतिहास के पन्नों में दर्ज हो गया।




साल 1965 में पाकिस्तान के साथ हुए युद्ध मे जीतने के बावजूद भारत की आर्थिक हालत काफी नाज़ुक हो गई थी। क्योंकि 1962 में चीन से हुए युद्ध में भयंकर जान-माल की हानि हुई, जिससे अच्छे से उबर पाने से पहले पाकिस्तान के साथ हुए युद्ध ने भारत को आर्थिक हालत पर कमजोर कर दिया था। यही कारण रहा कि पाकिस्तान से युद्ध जीतने के बावजूद आर्थिक हालात पर अपनी कमजोर स्थिति को देखते हुए भारत को हर समय चीन के दोबारा आक्रमण का डर सता रहा था। ऐसे में भारतीय सेना को युद्ध के लिए जरूरी सभी हथियारों से लैस करने के लिए जरूरी पैसे जुटाने के लिए प्रधानमंत्री लाल बहादुर शास्त्री जी ने रियासतों के मालिकों से मदद की अपील की। तब मीर उस्मान मदद के लिए सामने आए और भारत चीन युद्ध के समय इस्तेमाल किये गए भारतीय हतियार और बारूद मीर उस्मान के पैसो से ही खरीदे गये थे।

 Follow Us : - Google News | Dailyhunt News | Facebook | Instagram | Twitter | Pinterest

Share it:

Ajab Gajab

Amazing India

Hatke Khabar

Post A Comment:

0 comments:

• अगर आप इस आर्टिकल के बारे में कुछ कहेंगे या कोई सवाल कमेंट में करेंगे तो हमें बहुत ख़ुशी होगी