अभी तक RBI ने नहीं बदला ब्याज दर तो अब EMI कम करने के क्या हैं रास्ते? जानें यहां - SupportMeYaar.Com

Popular Posts

अभी तक RBI ने नहीं बदला ब्याज दर तो अब EMI कम करने के क्या हैं रास्ते? जानें यहां

Share it:


भारतीय रिज़र्व बैंक ने इस वित्त वर्ष की पहली मौद्रिक नीति बैठक में ब्याज दरों में कोई बदलाव नहीं किया है. यह लगातार छठी बार है जब केंद्रीय बैंक ने ब्याज दरों में कोई भी बदलाव नहीं करने का फैसला किया है. फिलहाल रेपो रेट 4 फीसदी और रिवर्स रेपो रेट 3.35 फीसदी पर है. दरअसल, सरकार द्वारा ज्यादा कर्ज लेने की योजना की वजह से सरकारी सिक्योरिटीज का यील्ड बढ़ गया है. यही कारण है कि आरबीआई ने मौजूदा ब्याज दरों को न तो घटाया है और न ही बढ़ाया है.

रेपो रेट बीते दो दशक के निचले स्तर पर है. ऐसे में कर्ज लेने वालों के लिए तो फिलहाल राहत की बात है. पिछले कुछ समय में होम लोन की ब्याज दरें बेहद कम रही हैं. हालांकि, जिन लोगों ने फिक्स्ड डिपॉजिट में निवेश किया है, उनके लिए RBI के इस फैसले से मायूस होना पड़ा है. आरबीआई के इसी फैसले को ध्यान में रखते हुए हम आपको बताने जा रहे हैं कि आपकी होम लोन EMI पर इसका क्या असर पड़ेगा और इसे कम करने के​ लिए आपके पास क्या रास्ते हैं?

1. एक्सटर्नल बेंचमार्क से लिंक्ड लोन के लिए

जिन लोगों का होम लोन एक्सटर्नल बेंचमार्क से लिंक्ड, उन लोगों की EMI में कोई बदलाव नहीं होगा. हां, अगर आपका बैंक मार्जिन कम करने का फैसला लेता है आपकी EMI कम हो सकती है. दूसरी ओर, अगर बैंक लोन अकाउंट पर रिस्क प्रीमियम बढ़ाने का फैसला लेता है तो आपके होम लोन पर ईएमआई बढ़ सकती है.

2. MCLR से लिंक्ड होम लोन

किसी भी बैंक का मार्जिनल कॉस्ट ऑफ फंड बेस्ड लेंडिंग रेट एक्सटर्नल और इंटर्नल – दोनों फैक्टर से प्रभावित होता है. ऐसे में अब MCLR में बदलाव आपके बैंक इंटर्नल फैक्टर्स पर निर्भर करेगा. आमतौर पर MCLR में साल के एक बार दो बार ही बदलाव होता है. ऐसे में अगर आपका बैंक MCLR में कटौती करता है तो आपकी EMI भी कम हो जाएगी. लेकिन, यह तभी होगा, जब आपके होम लोन रिसेट पीरियड आने वाला होगा.

यह भी जानना जरूरी है कि MCLR से लिंक्ड होम लोन लेने वालों के पास विकल्प होता है​ कि वे इसे एक्सटर्नल बेंचमार्क से लिंक करा लें. लेकिन इसके लिए आपको अपने बैंक से संपर्क करना होगा. होम लोन स्विच करने के लिए बैंक कुछ चार्ज वसूलते हैं.

3. BPLR से लिंक होम लोन

जिन लोगों का होम लोन बेस रेट या बेंचमार्क प्राइम लेंडिंग रेट (BPLR) से लिंक्ड है, उन्हें एक्सटर्नल बेंचमार्क आधारित होम लोन में स्विच करना चाहिए. इसमें आरबीआई के नीतिगत दरों को लेकर फैसले का असर तेजी से पड़ता है. 10 मार्च 2021 से लागू हो चुका SBI का BPLR 12.15 फीसदी और बेस रेट 7.5 फीसदी है. हालांकि, एसबीआई का रेपो रेट लिंक्ड लोन की ब्याज दरें 7 फीसदी से शुरू होती हैं.

4. नया लोन लेना चाहते हैं तो क्या करें?

अगर आप नयो होम लोन लेना चाहते हैं तो यह आपके लिए अच्छा समय है. वर्तमान में ब्याज दरें कम हैं, ऐसे में आपके पास इसका फायदा उठाने का अच्छा मौका है. हालांकि, लोन लेने से पहले आपको दूसरे फैक्टर्स को भी ध्यान में रखना चाहिए. सबसे कम ब्याज दर पर होम लोन लेने से पहले बैंकों के मार्जिन और रिस्क प्रीमियम की तुलना कर लें. यह भी ध्यान दें कि सभी बैंकों के एक्सटर्नल बेंचमार्क के तौर पर रेपो रेट नहीं चुना है. कुछ बैंकों ने होम लोन पर ब्याज दरों को डिपॉजिट रेट सर्टिफिकेट, ट्रेज़री बिल्स आदि से भी जोड़ रखा है.

 Follow Us : - Google News | Dailyhunt News | Facebook | Instagram | Twitter | Pinterest

Share it:

Hatke Khabar

Top News

Post A Comment:

0 comments:

• अगर आप इस आर्टिकल के बारे में कुछ कहेंगे या कोई सवाल कमेंट में करेंगे तो हमें बहुत ख़ुशी होगी